सुप्रीम कोर्ट से केंद्र, जापानी तकनीक से काम करेंगे प्रदुषण

दिल्ली-एनसीआर में हवा फिर जहरीली, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को भेजा नोटिस

दिल्ली-एनसीआर की हवा फिर जहरीली हुई। अब सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों को नोटिस भेजा है। नोटिस में प्रदूषण से निपटने के लिए जल्द समाधान करने को कहा है।

नई दिल्ली एएनएन (Action News Network)

राजधानी दिल्ली और आसपास में बढ़ते पलूशन पर सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जाहिर की है। यहां हवा के फिर से जहरीला होने पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों को नोटिस भेजा है। नोटिस में प्रदूषण से निपटने के लिए जल्द समाधान करने को कहा है। इसपर केंद्र ने टॉप कोर्ट को बताया है कि वह जापानी तकनीक से प्रदूषण कम करने का विकल्प तलाश रहे हैं।

Japanese Technology से कम होगा पलूशन?

Image result for japan hydrogen fuel cell
Japanese Fuel Cell Technique

सुनवाई के दौरान केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि वह पलूशन कम करने के लिए दुनियाभर के विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। इसमें जापान की तकनीक भी शामिल है, जिसमें हाइड्रोजन बेस्ड फ्यूल तकनीक का इस्तेमाल भी किया जाता है। सुप्रीम कोर्ट ने पलूशन पर कमिटी से 3 दिसंबर तक रिपोर्ट पेश करने को कहा है।

जापान पलूशन से निपटारे के लिए हाइड्रोजन पर यकीन करता है। वहां रिहायशी और इंडस्ट्रीयल इलाकों में फ्यूल सेल की मदद से हाइड्रोजन सप्लाइ की जाती है। यह सप्लाइ पाइपलाइन के जरिए होती है। चीन, वियतनाम, कंबोडिया भी बढ़ते प्रदूषण की वजह से इसपर विचार कर रहे हैं।

कैसे बनता है Hydrogen Fuel Cell

Related image
Hydrogen fuel cell

हाइड्रोजन का फ्यूल सेल बनाने के लिए पानी से हाइड्रोजन और ऑक्सिजन को अलग किया जाता है। यह बिजली की मदद से होता है। फिर ऑक्सिजन हवा में घुल जाती है वहीं हाइड्रोजन को स्टोर कर लिया जाता है।

बता दें कि दिल्ली-एनसीआर में पलूशन कम होने का नाम नहीं ले रहा है। बुधवार सुबह पलूशन का स्तर आपतकाल वाली स्थिति में था। सभी जगह पर एयर क्वॉलिटी इंडेक्स 500 के पार था।