5.5 लाख दीयों से बनेगा वर्ल्ड रिकॉर्ड, CM योगी पहुंचे

अयोध्या। एआईएन

सरयू तट पर नदी का किनारा 5.5 लाख दीयों से जगमग करेगा. ये अपने आप में एक रिकॉर्ड होगा. राम नगरी को राम के रंग में पिरोने के लिए हजारों स्कूली बच्चों की भी खास भूमिका रही है. बच्चों ने भगवान राम के जीवन पर आधारित चित्रकारी से अयोध्या को अलौकिक बना दिया है.

अयोध्या में दीपोत्सव (तस्वीर- PTI)

राम की नगरी अयोध्या में आयोजित दीपोत्सव कार्यक्रम में शामिल होने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वहां पहुंच गए हैं. दिवाली पर अयोध्या भगवान राम के रंग रंगी हुई है.
रामनगरी में 7 देशों की रामलीला लोगों के आकर्षण का केंद्र है. अयोध्या में थ्री-डी तकनीक से रामकथा के मंथन की तैयारी है. इसके अलावा सरयू तट पर नदी का किनारा 5.5 लाख दीयों से जगमग करेगा. ये अपने आप में एक रिकॉर्ड होगा.
राम नगरी को राम के रंग में पिरोने के लिए हजारों स्कूली बच्चों की भी खास भूमिका रही है. बच्चों ने भगवान राम के जीवन पर आधारित चित्रकारी से अयोध्या को अलौकिक बना दिया है.
पिछले दो साल से अयोध्या में ऐतिहासिक दिवाली मनाने वाली योगी सरकार इस बार रिकॉर्ड बनाने जा रही है. आज शाम अयोध्या में एक साथ 5.5 लाख दीये जलाकर योगी सरकार अपने ही पिछले रिकॉर्ड को तोड़कर नया इतिहास रचेगी.

dip2_102619050153.jpg

‘पुष्पक विमान’ में पहुंचें राम और सीता
हर साल की तरह इस बार भी अयोध्या के आसमान में पुष्पक विमान रूपी हेलिकॉप्टर में बैठकर राम, सीता और लक्ष्मण अयोध्या पहुंचे. राम कथा पार्क में उन पर फूलों की वर्षा हुई. खुद योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया. राम, सीता और लक्ष्मण के प्रतीक बने कलाकारों की आरती भी उतारी गई.

पिछले साल जलाए गए थे 3 लाख दिए
पिछली बार की तरह इस बार भी सरयू के घाट पर भव्य आरती होगी, जिसमें योगी आदित्यनाथ भी हिस्सा लेंगे. राम की पैड़ी पर साल दर साल दीप जलाने की क्षमता को योगी सरकार बढ़ाती आ रही है. इस बार 5.5 लाख दीये सजाए गए हैं. पिछले साल 3 लाख दीये जलाए गए थे.

अयोध्या केस पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी आने वाला है, इस मायने से भी इस बार अयोध्या की दिवाली बेहद खास होने वाली है.

dip3_102619050206.jpg

6000 छात्र-छात्राएं कार्यक्रम में शामिल
दीपोत्सव कार्यक्रम में अवध विश्वविद्यालय पूरी निष्ठा से कार्यक्रम का भागीदार बना हुआ है. 6000 छात्र-छात्राएं और शिक्षक इस उत्सव को सार्थक बनाने में जुटे हुए हैं. अवध विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राएं और शिक्षकों ने राम की पैड़ी से जुड़े 12 घाटों पर दीपक सजाने का किया है.
इस बार के आयोजन में पिछली बार से दोगुने लोग, तकरीबन 6 हजार वालंटियर लगाए गए हैं, जिनके द्वारा निर्धारित 12 घाटों पर 4 लाख 25 हजार दीपक सजाए जा रहे हैं.

इन घाटों पर इतने दीपक…

लक्ष्मण घाट : 48,000
वैदेही घाट : 22,000
श्रीराम घाट : 30,000
दशरथ घाट : 39,000
भरत घाट : 17,000
शत्रुघ्न घाट : 17,000
उमा-नागेश्वर-मांडवी घाट : 52,000
सुतकीर्ति घाट : 40,000
कैकेई घाट : 40,000
सुमित्रा घाट : 40,000
कौशल्या घाट : 40,000
उर्मिला घाट : 40,000

राम की पैड़ी पर 551000 दिए जलाकर विश्व रिकार्ड बनाया जाएगा. इसके लिए लंबा वक्त चाहिए. यही वजह है कि सैकड़ों छात्र-छात्राएं दीपकों को व्यवस्थित तौर पर घाट पर उपस्थित हैं. बाकायदा एक चौकोना बनाया गया है, जिसमें 100 दीये रखे जाएंगे और घाट के दोनों तरफ दीये लगाए जा रहे हैं.