कांग्रेस के 68 उम्मीदवारों की सूची को हरी झंडी, थोड़ी देर में हो सकता है एलान

नई दिल्ली : कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में दिल्ली विधानसभा चुनाव-2020 के लिए 68 उम्मीदवारों की सूची को हरी झंडी मिल गई है। कुछ ही देर में सूची जारी होने की संभावना जताई जा रही है। 

इससे पहले करीब डेढ़ दर्जन सीटों पर पेच फंसने के कारण शुक्रवार को भी कांग्रेस के उम्मीदवारों की सूची जारी नहीं हो सकी। गहमागहमी के बीच केंद्रीय चुनाव समिति (सीईसी) की बैठक में 50 नाम ही तय हो पाए। अब शनिवार सुबह फिर से सीईसी की बैठक हुई, जिसमें 68 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम पर मुहर लग गई है। उम्मीद है कि एक-दो दिन में बाकी बची दोनों सीटों पर भी उम्मीदवारों के नाम तय कर दिए जाएंगे।

इससे पहले बृहस्पतिवार को सीईसी की बैठक में 42 विधानसभा सीटों के उम्मीदवार तय कर दिए गए थे, जबकि चार सीटें गठबंधन के तहत राष्ट्रीय जनता दल (राजद) को दे दी गईं। शेष 24 सीटों के लिए शुक्रवार को सीईसी की दोबारा बैठक हुई, लेकिन केवल आठ और नाम ही तय किए जा सके, 16 फिर भी रह गए।

विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक सीईसी की बैठक में कुछ सीटों पर उम्मीदवारों के नामों पर सहमति नहीं बन पाई। मसलन, कांग्रेस द्वारका से AAP के निवर्तमान विधायक आदर्श शास्त्री, बदरपुर से नारायण दत्त शर्मा और राजेंद्र नगर से विजेंद्र गर्ग को अपना उम्मीदवार बनाना चाह रही है, जबकि पार्टी नेताओं का एक वर्ग इन्हें बाहरी करार देते हुए अपने ही दावेदारों को टिकट दिलवाना चाहता है।

इसी तरह छतरपुर से सतीश लोहिया, बाबरपुर से कैलाश जैन, त्रिनगर से चतर सिंह और मटियाला से सुमेश शौकीन के नाम पर भी विवाद सुनने में आया है। इनमें से कुछ नामों पर सहमति-असहमति के मुददे पर सीईसी की बैठक में गहमागहमी भी हुई। कस्तूरबा नगर, नई दिल्ली, ओखला, सदर बाजार इत्यादि कुछ सीटों पर भी विवाद बरकरार है।

सूत्र बताते हैं कि आलाकमान ने कुछ निर्देशों के साथ पार्टी नेताओं को जल्द से जल्द सभी बची हुई सीटों के उम्मीदवार तय करने को कहा है, ताकि शनिवार सुबह फिर से होने वाली सीईसी की बैठक में सभी 70 उम्मीदवारों के नामों को औपचारिक स्वीकृति दी जा सके। संभावना जताई जा रही है कि शनिवार को कांग्रेस के 66 ही नहीं बल्कि राजद के खाते वाली 4 सीटों के उम्मीदवारों के नाम भी घोषित कर दिए जाएंगे।