तो,ये हैं आदर्श नगर में भाजपा से टिकट के दावेदार

नई दिल्ली।  रवि भारद्वाज

जैसे-जैसे दिल्ली में विधानसभा चुनाव नज़दीक आ रहे हैं वैसे-वैसे सियासी सरगर्मियां भी तेज होती जा रही हैं। पितृ पक्ष के दिन समाप्त होते ही नवरात्रों से सियासी चहलकदमी और भी अधिक बढ़ गई है। लोकसभा चुनाव में जहां कांग्रेस के प्रदर्शन में काफी सुधार आया तो वहीं, आम आदमी पार्टी पिछले विधानसभा चुनाव वाला परिणाम एक बार फिर दोहराने की जुगत में है। इन सबके बीच, लोकसभा चुनाव में हुई बंपर जीत से उत्साहित भाजपा, इस बार दिल्ली फतह करने के लिए हर संभव दांव खेलने को तैयार दिख रही है। इसी कड़ी में दिल्ली की सभी 70 सीटों पर भाजपा कार्यकर्ता और नेता काफी एक्टिव नज़र आ रहें हैं। इसका कारण टिकट हासिल करने से लेकर पार्टी आलाकमान के सामने खुद की स्थिति मजबूत दिखाना भी है।
आईए, बात करते हैं दिल्ली के आदर्श नगर विधानसभा क्षेत्र में टिकट के प्रबल दावेदारों की। इस फेहरिस्त में सबसे पहला नाम आता है राज कुमार भाटिया का।

आदर्श नगर क्षेत्र में राजू भाई के नाम से मशहूर राज कुमार भाटिया एक लंबे अर्से से भाजपा नेता के रूप में सक्रिय हैं। इससे पहले हुए तीन विधानसभा चुनावों में भी भाटिया ने अपनी मजबूती का अहसास करवाया था लेकिन पार्टी आलाकमान ने ऐन-मौके पर राम किशन सिंघल को मौका देकर राजकुमार भाटिया को टिकट से महरूम कर दिया था। 2013 के विधानसभा चुनाव में रामकिशन सिंघल ना सिर्फ आदर्श नगर से चुनाव लड़े बल्कि एक बड़े अंतराल से चुनाव जीते भी। इसके बाद तो ये माना जाने लगा था कि अब शायद भाटिया का राजनीतिक करियर यहीं समाप्त हो गया है। दिल्ली की जनता ने किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं दिया। फिर, 2015 में मध्याविधि चुनाव हुए और आम आदमी पार्टी की आंधी में भाजपा के सभी किले ढ़ह गए। इनमें आदर्श नगर से रामकिशन सिंघल को भी हार का मुंह देखना पड़ा।

टिकट की दौड़ में सबसे आगे

Image may contain: Raj Kumar Bhatia, smiling
Raj kumar bhatiya

कहते हैं कि समय बहुत बलवान है। जिस राजकुमार भाटिया के राजनीतिक करियर को समाप्त माना जा रहा था। वही भाटिया, एक बार फिर उठे, अपनी किस्मत से लड़े और आज टिकट की दौड़ में सबसे आगे नजर आ रहे हैं। अगर भाटिया की राजनीतिक ताकत की बात की जाए तो उनकी सबसे बड़ी ताकत उनकी राजनीतिक परिपक्वता है। बोलने और लिखने की अच्छी सूझ-समझ उनके व्यक्तित्व में चार चांद लगाती है। इसी के चलते इन्हें दिल्ली प्रदेश भाजपा में प्रवक्ता जैसी महत्वपूर्ण जिम्मेवारी दी गई। सोशल मीडिया में अत्यधिक सक्रियता से लेकर स्थानीय कार्यकताओं में भी राजकुमार का मिलनसार व्यवहार काफी पसंद किया जाता है। रोटी बैंक और फलोत्सव जैसे कुछ अलग सोच वाले कार्यक्रमों के लिए भी राजकुमार भाटिया की हर ओर तारीफ होती है। यहीं कारण है कि टिकट की दौड़ में इनका नाम सबसे प्रबल दावेदार के रूप में देखा और माना जा रहा है। आपको बता दें कि भाटिया और उनके करीबी अभी से ही इलैक्शन मोड में आ चुके हैं। इनके नजदीकियों का यहां तक कहना है कि इस बार भाटिया जी की टिकट फाइनल है। इस बात का इजहार खुद राजकुमार भी कई जगह कर चुके हैं।

पार्टी का प्रचलित चेहरा

Image may contain: 1 person, smiling, closeup
Roshan kansal

आदर्श नगर से टिकट पाने वालों की दौड़ में दूसरा नाम आता है रोशन कंसल का। भाजपा के वरिष्ठ नेताओं में शुमार। वर्तमान जिलाध्यक्ष और पार्टी का प्रचलित चेहरा। ये भाजपा के गठन से लेकर विभिन्न स्तरों पर पार्टी में अलग-अलग जिम्मेवारियां निभा चुके हैं। आदर्श नगर क्षेत्र में इन्हें आरएसएस विचारधारा के ध्वजवाहक के रूप में पहचाना जाता है। पार्टी ने इन्हें एक बार विधानसभा का चुनाव भी लड़वाया। हालांकि, उस चुनाव में रौशन कंसल कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाये थे। यहां यह काबिलेगौर है कि रौशन कंसल भाजपा के संघर्ष के दिनों के सिपाही रहें हैं। आज जिस मुकाम पर पार्टी खड़ी है। कुछ साल पहले तक भाजपा की ऐसी स्थिति नहीं थी। पार्टी के शुरूआती दिनों में जिस निष्ठा और ईमानदारी से इन्होंने सेवा की, उसी जोश और जुनून से आज भी रौशन कंसल सक्रिय हैं। संगठन की बारीक समझ और मजबूत पकड़ इन्हें, इस सीट पर सबसे मजबूत दावेदार के रूप में पेश करती है।

इकलौता महिला चेहरा

Image may contain: 2 people, people smiling
Neelam bhudhiraja

इस सीट पर तीसरा और इकलौता महिला चेहरा जो सामने आता है। वह है नीलम बुद्धिराजा। लगभग दो दशक से पार्टी में सक्रिय नीलम की पहचान बेहद मिलनसार और सौम्य व्यक्तित्व वाले नेताओं में होती है। आदर्श नगर वॉर्ड से लगातार दो बार पार्षद भी रह चुकी हैं नीलम बुद्धिराजा। मुस्लस्ल दो बार पार्षद रहना नीलम का सबसे बड़ा प्लस प्वाइंट भी है। नीलम ने अपने 10 वर्षीय कार्यकाल में आदर्श नगर वॉर्ड में कई ऐसे विकासात्मक कार्यों को अमलीजामा पहनाया जिसके लिए आज भी इन्हें याद किया जाता है। मजलिस पार्क में जिम, स्वीमिंग पूल और कम्युनिटी सेंटर, आदर्श नगर के सुभाष पार्क का जीर्णोद्धार, इंद्रा नगर की अत्याधुनिक डिस्पेंसरी और सबसे महत्वपूर्ण आजादपुर गांववासियों की सालों पुरानी मांग यानी मदर डेयरी के लिए जमीन अलॉट करवाने का श्रेय भी इन्हें ही जाता है। आदर्श नगर विधानसभा के अन्तर्गत आने वाले दो महत्वपूर्ण वॉर्ड, आदर्श नगर और धीरपुर में नीलम बुद्धिराजा की मजबूत पकड़ है। यही कारण है कि आगामी विधानसभा चुनाव के लिए नीलम बुद्धिराजा भी मजबूत दावेदारों में से एक हैं।

आदर्श नगर के राजनीतिक अखाड़े का डार्क हॉर्स

Image may contain: 3 people, people smiling, text
Surendra chopra

आदर्श नगर सीट पर चौथे संभावित उम्मीदवार जिनका नाम इन दिनों खूब चर्चा में है। वह है सुरेन्द्र चोपड़ा। चोपड़ा साहब की पहचान बेहद मिलनसार, निश्छल, ईमानदार और जमीन से जुड़े हुए व्यक्ति के रूप में होती है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि आज के राजनीतिक माहौल में ऐसे लोग विरले ही मिलते हैं। चोपड़ा जी को आदर्श नगर के राजनीतिक अखाड़े का डार्क हॉर्स (छुपा रुस्तम) कहा जाए, तो यह कतई गलत नहीं होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि, चोपड़ा जी सबसे धीमी गति से चले। पिछले एक दशक में समाज के उत्थान के लिए नित-नए बीड़े उठाए। चाहे वह वर-वधु गठबंधन जैसी काबिलेतारीफ संस्था का गठन हो, जरूरतमंदों के लिए मात्र 10 रूपये में खाना परोसने वाली आदर्श रसोई की शुरुआत हो, समय-समय पर शहीदों के परिवारों को लाखों रूपये आर्थिक सहायता मुहैया करवाना हो, भाजपा के छोटे से छोटे कार्यक्रम में जिम्मेवारियों को बखूबी निभाना हो। सभी कामों में सुरेन्द्र चोपड़ा ने बिना किसी लालच के कार्य किये। हालांकि, भाजपा की टिकट हासिल करने के लिए कई ऐसे दांव खेलने और सीखने पड़ते हैं, जिन्हें अपनाना इनके लिए आसान नहीं होगा। अब ये देखना काफी दिलचस्प होगा कि आदर्श नगर से टिकट की दौड़ में ये कछुआ बाकी प्रतिद्वंदियों को हराकर रेस जीत पायेगा या नहीं।

आदर्श नगर के पूर्व विधायक का नाम भी सुर्खियों में

Image may contain: 1 person, sitting and indoor
Jay prakash yadav

इस सीट पर पूर्व विधायक जय प्रकाश यादव का भी नाम सुर्खियों में है। आपको बता दें कि सन् 1993 में पहली बार यादव आदर्श नगर से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे थे। इसके बाद सन् 1998 के विधानसभा चुनाव में इन्हें हार का मुंह देखना पड़ा। वर्ष 2003 और 2008 में ये सीट अकाली कोटे में चली गई थी। इन दोनों चुनावों में, अकाली-भाजपा ने संयुक्त उम्मदीवार के रूप में रविन्द्र सिंह खुराना को मौका दिया लेकिन नतीजे हार में ही फलीभूत हुए। जहां तक, जय प्रकाश यादव की राजनीतिक सूझ-समझ की बात की जाए तो यादव इस क्षेत्र को बखूबी समझते हैं। धीरपुर वार्ड में यादव का बड़ा स्ट्रान्ग होल्ड है। उम्र बेशक इनकी राजनीतिक महत्वकांक्षा में रोड़ा बन रही हो लेकिन जोश और जुनून में ये आज भी किसी नौजवान से कम नहीं हैं। इस लिहाज से आदर्श नगर सीट पर जय प्रकाश यादव को भी एक मजबूत दावेदार के रूप में देखा जा रहा है।

पार्षद और उनके रिश्तेदार भी टिकट की दौड़ में

Image may contain: 1 person
Naveen tyagi
Image may contain: 1 person, smiling
Suresh gupta

इन सबके अलावा, इस सीट पर धीरपुर से पार्षद नवीन त्यागी और आदर्श नगर से पार्षद गरिमा गुप्ता के ससुर और वरिष्ठ भाजपा नेता सुरेश गुप्ता भी टिकट की दौड़ में सक्रिय नज़र आ रहें हैं। प्रदेश भाजपा में हमारे सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वर्तमान में पार्षद या उनके परिवार में किसी को भी टिकट नहीं दी जाएगी। अगर इस नीति पर अमल हुआ तो नवीन त्यागी और सुरेश गुप्ता पहले राउंड में ही टिकट की दौड़ से बाहर हो जाऐंगे। लेकिन, अगर विनिबिल्टि (जिताऊ प्रत्याशी) को ध्यान मेें रखा गया तो त्यागी और गुप्ता, दोनों ही मजबूत दावेदार हैं।