गोयल अस्पताल मामला: डाक्टरों ने दी 72 घंटे की चेतावनी, सुरक्षा की मांग

रायपुर। एएनएन (Action News Network)

राजधानी के प्राइवेट गोयल अस्पताल में डाक्टरों की लापरवाही से एक युवती की मौत के बाद परिजनों द्वारा तोड़फोड़ के बाद डाक्टरों ने शनिवार देर शाम जिला एसपी को पत्र लिखकर डाक्टरों को सुरक्षा देने की मांग की है। साथ ही कहा है कि 72 घंटे के भीतर तोड़फोड़ के मामले में आरोपितों पर कार्रवाई की जाए, नहीं तो राजधानी के सभी प्राइवेट डाक्टर हड़ताल पर चले जाएंगे। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की रायपुर ब्रांच ने गोयल अस्पताल के समर्थन में उतरते हुए रायपुर एसपी को यह पत्र लिखा है। आईएमए ने आरोप लगाया है कि मरीज के परिजनों ने डाॅक्टर एसके गोयल नर्सिंग होम में पुलिस की उपस्थिति में डाक्टरों के साथ बदतमीजी की और अस्पताल में तोड़फोड़ की है। आवेदन में कहा गया है कि इस तरह के भय के वातावरण में डाक्टर मरीजों का इलाज नहीं कर पायेंगे।

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को एसके गोयल नर्सिंग होम में डाक्टरों की लापरवाही से एक युवती की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि डाक्टरों ने एक्सपायरी इंजेक्शन दिया था। जिसके बाद मरीज का शरीर नीला पड़ गया और फिर उसकी मौत हो गई। मौत से गुस्साए परिजनों ने अस्पताल में तोड़फोड़ की। इससे नाराज डाक्टरों ने शनिवार को इलाज बंद कर देने की धमकी देने के साथ ही सभी मरीजों को अस्पताल से बाहर निकालना शुरू कर दिया। मामला यहां तक पहुंच गया है कि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की रायपुर ब्रांच ने राजधानी के सभी प्राइवेट अस्पतालों में इलाज नहीं करने की धमकी दी है।

शनिवार दोपहर रायपुर प्राइवेट हॉस्पिटल बोर्ड के अध्यक्ष डॉक्टर राकेश गुप्ता ने सभी प्राइवेट अस्पताल के सदस्यों को तुरन्त अपना अस्पताल और क्लीनिक बन्द कर, तुरंत गोयल अस्पताल आने को कहा। इसके बाद आईएमए ने आपात बैठक बुलाई। तोड़फोड़ के बाद शुक्रवार देर रात यह मामला थाने तक पहुंचा लेकिन शिकायत नहीं दर्ज करवाने के लिए मरीज के परिजनों पर दबाव डाला गया, जिसके बाद मरीज के परिजनों ने कोई शिकायत नहीं की।

आजाद चौक पुलिस थाने के सीएसपी नसर सिद्दीकी ने बताया कि दोनों ही पक्षों में से किसी ने शिकायत नहीं की है। लेकिन शनिवार को आईएमए ने तोड़फो़ड़ करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए राजधानी के सभी प्राइवेट अस्पतालों में इलाज नहीं करने की धमकी दी और बैठक बुलाई। आईएमए गोयल अस्पताल का बचाव कर रही है। शहर में कई अस्पतालों में ओपीडी सुबह से बंद है। मरीज परेशान हो रहे हैं।