ओडीएफ के नाम पर व्यापक पैमाने पर सरकारी राशि की लूट: मांझी

गया में डायरिया, डीएम गंभीर नहीं

गया। एएनएन (Action News Network)

पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी का आरोप है कि गया सहित पूरे बिहार में खुले में शौच (ओडीएफ) के नाम पर व्यापक पैमाने पर सरकारी राशि की लूट हुई। मांझी का दावा है कि गया के सुदूरवर्ती इलाकों में डायरिया से काफी संख्या में ग्रामीण पीड़ित हैं। लेकिन जिलाधिकारी अभिषेक सिंह सहित अन्य अधिकारी स्थिति की गंभीरता को हल्के में ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि इमामगंज प्रखंड अंतर्गत पांच ग्रामीणों की मौत डायरिया से हो चुकी है।

मांझी गुरुवार को गया स्थित अपने आवास पर मीडियाकर्मियों को संबोधित कर रहे थे। मांझी ने कहा कि गया के इमामगंज विधानसभा क्षेत्र सहित कई जगह खुले से शौच यानी ओडीएल मुक्त नहीं हुआ है। इसे डीएम के संज्ञान में मामला लाया गया लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

जिला प्रशासन का सौ प्रतिशत ओडीएफ का दावा झूठ का पुलिंदा है। उन्होने कहा कि जिलाधिकारी अभिषेक सिंह सहित अन्य अधिकारियों को असंवेदनशील बताते हुए आरोप लगाया है कि 18 नवम्बर को सभी को इमामगंज प्रखंड अंतर्गत डायरिया से पीड़ित ग्रामीणों के बारे में जानकारी दी गई।

डीएम अभिषेक सिंह ने उन्हें बताया कि जिला स्तरीय एक टीम प्रभावित इलाके में भेजी जी रहा है लेकिन गुरुवार दस बजे तक जिला स्तरीय कोई टीम इमामगंज के स्वास्थ केंद्र पर नहीं पहुंची थी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि वे इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव से बात कर वस्तुस्थिति से अवगत कराएंगे।