फोन, कंप्यूटर की ब्लू लाइट से बुढ़ापा जल्दी

अगर आप भी अंधेरे में मोबाइल या लैपटॉप यूज करते हैं तो सावधान हो जाइए। इन डिवाइसेज से निकलने वाली ब्लू लाइट न सिर्फ आंखों को नुकसान पहुंचाती है बल्कि समय से पहले बुढ़ापा आने के लिए भी जिम्मेदार है।

नई दिल्लीएएनएन (Action News Network)​

स्मार्टफोन, कंप्यूटर और होम अप्लायंसेज से निकलने वाली ब्लू लाइट का आपकी उम्र पर गहरा असर पड़ता है। इस ब्लू लाइट में ज्यादा समय तक रहने से नींद की दिक्कत और सर्केडियन जैसे डिसऑर्डर हो सकते हैं। एक स्टडी में यह बात सामने आई है कि जब स्क्रीन आपकी आंखों की सीध नहीं होती है तब भी यह आपको नुकसान पहुंचा सकती है। ब्लू लाइट आपकी लंबी उम्र घटा सकती है या बुढ़ापे में तेजी ला सकती है। इस बारे में एजिंग ऐंड मेकैनिज्म्स ऑफ डिजीज जर्नल में पब्लिश हुई स्टडी के मुताबिक LED (लाइट एमिटिंग डायोड) से निकलने वाली ब्लू वेव लेंथ मस्तिष्क की कोशिकाओं और आंखों की पुतलियों को नुकसान पहुंचाती है।

Artificial Attack

ब्लू लाइट से कैसे होता है नुकसान?
स्टडी कॉमन फ्रूट फ्लाई ड्रॉसोफिला मेलानोगैस्टर पर हुई थी। इस मक्खी का सेलुलर और डिवेलपमेंटल मेकैनिज्म दूसरे जानवरों और इंसानों की तरह होने से इसे स्टडी में शामिल किया गया था। अनुसंधानकर्ताओं ने इन मक्खियों को 12 घंटे तक ब्लू एलईडी लाइट में एक्सपोज किया, जिसकी वेवलेंथ होम अप्लायंसेज से निकलने वाली ब्लू लाइट के बराबर थी। उन्होंने मक्खियों पर उस लाइट के असर की पड़ताल की तो पाया कि लाइट से उनकी उम्र बढ़ने की रफ्तार तेज हो गई।

Image result for phone and laptop blue light effect

आंख और ब्रेन को होता है नुकसान
शोध जिन मक्खियों पर किया गया था, उनके मस्तिष्क की कोशिकाओं और आंखों की पुतलियों को एलईडी लाइट्स से नुकसान पहुंचा था। उनसे उनकी लोकोमोशन कैपेबिलिटीज यानी दीवारों पर चढ़ने की क्षमता कम हो गई थी। इनमें कुछ म्यूटेंट फ्लाई को शामिल किया गया था, जिनकी आंखें नहीं बनी थीं। आंख नहीं होने के बावजूद ब्लू लाइट के चलते उन मक्खियों में ब्रेन डैमेज और लोकोमोशन डिसऑर्डर देखा गया था। इससे पता चलता है कि लाइट आंखों पर सीधी पड़े या नहीं, यह उन्हें पूरा नुकसान पहुंचा सकती है।

Related image

मक्खियों की उम्र तेजी से बढ़ने लगी
स्टडी की लीड रिसर्चर और इंटीग्रेटिव बायोलॉजी की प्रफेसर Jaga Giebultowicz ने बताया, ‘लाइट से मक्खियों की उम्र तेजी से बढ़ रही है यह जानकर पहले हमें काफी हैरानी हुई। हमने पुरानी मक्खियों में कुछ जींस चेक किए तो पाया कि जिन्हें लाइट में रखा गया था उनमें स्ट्रेस-रिस्पॉन्स और प्रोटेक्टिव जींस हैं। उसके बाद हमने पता लगाना शुरू किया कि आखिर लाइट में ऐसा क्या है जिससे मक्खियों को नुकसान पहुंच रहा है। फिर हमने लाइट के स्पेक्ट्रम पर गौर किया।’

Image result for makkhi

स्लीप डिसऑर्डर का भी खतरा
Giebultowicz ने बताया कि नैचरल लाइट बॉडी के सर्केडियन रिदम यानी ब्रेन वेव ऐक्टिविटी, हॉर्मोन प्रॉडक्शन और सेल रीजनरेशन जैसी ऐक्टिविटीज के 24 घंटे की साइकिल को दुरुस्त रखने के लिए जरूरी होती है। यह सोने और खाने के पैटर्न तय करने में मददगार होती है। उन्होंने कहा, ‘आर्टिफिशल लाइट का एक्सपोजर बढ़ने से सर्केडियन और स्लीप डिसऑर्डर का खतरा बनता है।’ हालांकि रिसर्चर्स ने कुछ ऐसी चीजें बताई हैं जिनसे आप ब्लू लाइट के असर से खुद को बचा सकते हैं।

Related image

क्या है बचाव का तरीका?
रिसर्चर्स का कहना है कि घंटों अंधेरे में बैठे रहने से बचना चाहिए और एंबर लेंस वाले चश्मे का इस्तेमाल करना चाहिए। ये चश्मे ब्लू लाइट को आंख तक नहीं पहुंचने देते और रेटीना को सुरक्षित रखते हैं। फोन, लैपटॉप और दूसरी डिवाइसेज को ब्लू एमिशन ब्लॉक करने के लिए भी सेट किया जा सकता है।