लखनऊ से मुम्बई के बीच तेजस की तर्ज पर चलेगी प्राइवेट ट्रेन

लखनऊ। एएनएन (Action News Network)

रेलवे बोर्ड ने लखनऊ से मुम्बई के बीच तेजस ट्रेन की तर्ज पर प्राइवेट (निजी) ट्रेन चलाने की तैयारी पूरी करके इसके लिए फिजिबिलिटी जांचने का काम शुरू हो गया है।

दिल्ली से हावड़ा और दिल्ली से मुम्बई सहित अन्य रूटों पर कुल 150 प्राइवेट ट्रेनें चलाने की तैयारी

मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी (सीपीआरओ) दीपक कुमार ने सोमवार को बताया कि लखनऊ से मुम्बई के बीच तेजस की तर्ज पर प्राइवेट ट्रेन चालने का खाका रेलवे बोर्ड ने तैयार कर लिया है। इसके लिए फिजिबिलिटी जांचने का काम भी शुरू हो गया है। फिलहाल दिल्ली से हावड़ा और दिल्ली से मुम्बई सहित अन्य रूटों पर कुल 150 प्राइवेट ट्रेनें चलाने की तैयारी है। उन्होंने बताया कि प्राइवेट ट्रेनें 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलाई जाएंगी। 150 प्राइवेट ट्रेनों के लिए निजी ऑपरेटरों को 2400 बोगियां खरीदनी पड़ेगी। इसमें एक ट्रेन में 16 बोगियां लगेंगी। प्राइवेट ट्रेनों के चलने से यात्री अपने गंतव्य पर जल्दी पहुंच जाएंगे। इससे उनका समय बचेगा।

सीपीआरओ ने बताया कि गत वर्ष चार अक्टूबर को देश की पहली निजी ट्रेन तेजस एक्सप्रेस का संचालन लखनऊ से दिल्ली के बीच शुरू किया गया है। इस ट्रेन के संचालन की कमान आईआरसीटीसी को सौंपी गई है। उन्होंने बताया कि रेलवे बोर्ड पहले इस ट्रेन को निजी हाथों में सौंपने के मूड में था लेकिन अनुभव लेने के उद्देश्य से आईआरसीटीसी को संचालन की कमान दी गई है। सीपीआरओ ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने जिन 150 निजी ट्रेनों को चलाने का खाका तैयार किया है। उन्हें पूरी तरह प्राइवेट हाथों में दिया जाएगा। इसके लिए रेलवे बोर्ड से लेकर रेलवे जोनों और मंडलों में तैयारियां चल रहीं हैं।

उन्होंने बताया कि प्राइवेट ट्रेनों के ऑपरेशन के दौरान आने वाली समस्याओं पर भी मंथन शुरू हो गया है। रेलवे को मिलने वाले राजस्व से लेकर यात्री सुविधाओं पर विचार-विमर्श किया जा रहा है।