कंपनियों के तिमाही नतीजों से तय होगी भारतीय शेयर बाजार की चाल

नई दिल्ली। एएनएन (Action News Network)

इस सप्ताह भारतीय शेयर बाजार की चाल कंपनियों के आने वाले तिमाही नतीजों तथा आगामी आम बजट को लेकर उम्मीदों से तय होगी। इस सप्ताह निजी और सार्वजनिक (पीएसयू) क्षेत्र के बेंकों के तिमाही नतीजे आने वाले हैं। जिन बैंकों के नतीजे आने वाले हैं, उनमें बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, केनरा बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और एक्सिस बैंक के तिमाही परिणाम आने हैं। बीते सप्ताह बंबई शेयर बाजार का 31 शेयरों वाला सेंसेक्स 345.65 अंक या 0.83 प्रतिशत के लाभ में रहा था।

बाजार के जानकारों के मुताबिक अमेरिका और ईरान के बीच तनाव कम होने तथा अमेरिका और चीन के बीच पहले चरण के व्यापारिक समझौते पर हस्ताक्षर इन घरेलू शेयर बाजारों की हालिया तेजी की प्रमुख वजह हैं। जानकारों का मानना है कि आम बजट और शेयर बाजार के सर्वकालिक उच्च स्तर पर चले जाने की वजह से निवेशक सतर्क रुख अख्तियार करेंगे।तीसरी तिमाही के लिए कंपनियों के परिणाम आ रहे हैं, ऐसे में शेयर बाजार की चाल चुनिंदा कंपनियों के इर्द-गिर्द रह सकती है। साथ ही कृषि, ग्रामीण, उर्वरक, सार्वजनिक उपक्रम, बुनियादी संरचना और निर्माण आदि से संबंधित क्षेत्रों में बजट से लगी उम्मीदों का असर भी बाजार पर पड़ सकता है।

इस सप्ताह जिन कंपनियों के तिमाही परिणाम पर निवेशकों की नजरें रहेंगी, उनमें आईसीआईसीआई बैंक, जेएसडब्ल्यू स्टील, जी, हैवेल्स, एचडीएफसी एएमसी आदि शामिल हैं। इनके अलावा बाजार पर कच्चे तेल तथा रुपये की चाल और विदेशी निवेशकों के रुख का भी असर देखा जा सकता है। तीसरी तिमाही के परिणामों से वित्त वर्ष 2019-20 और 2020-21 की वृद्धि की गति को समर्थन मिलेगा। इसके अलावा बाजार को सरकार से बजट में ठोस उपायों की उम्मीद है।

उल्लेखनीय है कि टीसीएस ने शुक्रवार को बाजार बंद होने के बाद तिमाही परिणाम जारी किये। कंपनी का एकीकृत शुद्ध लाभ तीसरी तिमाही में मामूली वृद्धि के साथ 0.2 प्रतिशत बढ़कर 8,118 करोड़ रुपये रहा। सोमवार को बाजार पर इसका असर देखने को मिल सकता है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने भी शुक्रवार को बाजार बंद होने के बाद परिणाम जारी किये। कंपनी का एकीकृत शुद्ध मुनाफा तीसरी तिमाही में 13.5 प्रतिशत बढ़कर 11,640 करोड़ रुपये पर पहुंच गया।