नवगछिया में स्ट्राबेरी की खेती बनी कौतूहल, आमदनी के साथ स्वास्थ्य के लिए लाभदायक

भागलपुर। एएनएन (Action News Network)

भागलपुर में नारायणपुर प्रखंड के नागरपारा में इन दिनों स्ट्रॉबेरी की खेती चर्चा का विषय बनी हुई है। नारायणपुर निवासी किसान संजय यादव ने दो कट्ठा जमीन पर लगभग दो हजार स्ट्राबेरी के पौधे लगाए हैं। जिसमें पच्चीस हजार रुपए खर्च हुए हैं। उन्होंने इस सौधे को पुणे से मंगवाया है, जिसे लगाने की विधि उन्हें पुणे में ही बतायी गयी थी। तीन महीने में पौधे में फल लगकर तैयार होने लगता है। अभी कुछ पौधे में स्ट्राबेरी पककर तैयार हो गया है। तैयार फल कोजिसेर कृषि विश्वविद्यालय द्वारा खरीदा जायेगा।

अभी संजय के खेत में स्ट्रॉबेरी देखने के लिए क्षेत्र के लोगों की भीड़ लगी रहती है। क्योंकि यहॉ के किसानों के लिये यह नई फसल है। संजय ने बताया कि सबौर कृषि वैज्ञानिक ने भरोसा दिया है कि इसकी खेती से आमदनी अच्छी होगी। स्ट्रॉबेरी के कई फायदे हैं। स्ट्रॉबेरी के लेकर कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि स्‍ट्रॉबेरी के पत्ते में विटामिन ए, सी, डी, इ, के, बीवन, बीटू, बीथ्री, बीबारह, आयरन, कैल्शियम, मैग्‍नीशियम, सोडियम और बहुत से पोषक तत्‍व पाए जाते हैं।

इसका सेवन करने से श्वांस संबंधी बीमारी, गठिया, कैंसर, दिल संबंधी रोग, पीलिया आदि धातक बीमारियों की रोकथाम की जा सकती है। एंटीऑक्‍सीडेंट और पॉलीफेलॉल स्‍ट्रॉबेरी में अच्‍छी मात्रा में उपलब्‍ध होते है। ये घटक दिल के स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देते हैं और कई प्रकार के कैंसरों को रोकने में मदद करते हैं। विटामिन सी होने के कारण यह त्‍वचा संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य को भी बढ़ावा देता है। इसमें उपस्थित फाइबर पाचन क्रिया को मजबूत कर वजन को कम करने में सहायक होता है। स्‍ट्रॉबेरी से अन्य भी बहुत सारे स्‍वास्‍थ्‍य लाभ है।