उत्तराखंड : पानी व रास्तों को तरस रहा है कौड़िया वन का जुई गांव

उत्तराखंड, ब्यूरो | जल संस्थान कोटद्वार ने लाखों रुपए खर्च कर जुई व चाई के लिए पानी की योजना बनाई थी।  लेकिन उसमे केवल 4 माह ही पानी आता है। बात जनपद पौड़ी गढ़वाल विकासखण्ड ज़हरीखाल पट्टी कौड़िया वन के बेबड़ी ग्राम सभा के जुई गांव की है।  जब हमारे संवाददाता ने जुई गांव के लोगो से बात की तो उनका सब्र का पैमाना छलक गया।  जुई निवासी धर्मानन्द बुडाकोटी बताते है कि 4 साल पहले उनके गांव के लिए जल संस्थान कोटद्वार ने लाखो की लागत से पेयजल योजना बनाई।  ये पेयजल योजना कफलडी गांव से चाई व जुई के लिए बनी थी। लेकिन इस पाइप लाइन पर केवल बरसात में ही पानी आता है। जब पानी की सख्त जरूरत होती है तब नल केवल सो पीस बने रहते हैं। प्रशासन को इस समस्या से कोई मतलब ही नहीं है।

इस समस्या के लिए गांव वासियों ने कई बार संबंधित विभाग व स्थानीय विधायक उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज व जिला प्रशासन पौड़ी गढ़वाल को भी सूचित कर चुके हैं। लेकिन उनकी इस समस्या पर कहीं से कोई कार्यवाही नहीं हुई। धर्मानन्द बुडाकोटी बताते है कि उनके गांव के मुख्य सम्पर्क मार्ग पर cc मार्ग तो दूर खडींजे भी नहीं है । यहाँ तो पंचायत घर की स्थिति ऐसी है कि उस पर ना पानी की व्यवस्था है, ना ही उस पर डेंटिंग पेंटिंग हुई है। हैरानी की बात तो यह है कि पंचायत भवन तक के रस्ते के अलावा कुछ नहीं है।