Top
Action India

चुनाव प्रचार बाद पैसे बांटने के आरोप में सांसद शरनिया गिरफ्तार

चुनाव प्रचार बाद पैसे बांटने के आरोप में सांसद शरनिया गिरफ्तार
X
  • जमानत मिलने पर कहा, वह उल्फा के पूर्व कैडर के घर खाना खाने गये थे

कोकराझार । एक्शन इंडिया न्यूज़

बोड़ोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल (बीटीसी) के दूसरे चरण के चुनाव प्रचार समाप्त होने के बाद बीती रात पुलिस ने गण सुरक्षा पार्टी (जीएसपी) के अध्यक्ष नब कुमार शरनिया को नकदी बांटने के आरोप के बाद हिरासत में ले लिया गया।

जीएसपी के अध्यक्ष नब कुमार शरनिया कोकराझार जिले के सालाकटी इलाके से निर्दलीय लोकसभा सांसद हैं। शरनिया के साथ ही आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप में उनके 06 साथियों को भी हिरासत में लिया गया था। बाद में उन्हें कोकराझार पुलिस स्टेशन लाया गया। वे रात भर थाने में नजरबंद थे। पुलिस सूत्रों के मुताबिक शरनिया सालाकती इलाके के एक गांव में नकदी बांट रहे थे।

बुधवार की सुबह शरनिया और उनके समर्थकों को जमानत पर रिहा कर दिया गया। इस बीच सांसद नब कुमार शरनिया ने अपने ऊपर लगे आरोपों का खंडन किया है। लोकसभा सांसद ने कहा, "इसके पीछे एक राजनीतिक साजिश है। हमें नकदी वितरित करने की आवश्यकता नहीं है। हमारे पास वितरित करने के लिए धन नहीं है। "

सांसद ने बताया कि वह उल्फा के एक पूर्व कैडर के घर खाना खाने गये थे जहां से पुलिस ने हमें डिटेन कर लिया। पुलिस पर हमला किए जाने के संबंध में उन्होंने कहा कि कुछ अपराधी तत्वों ने उन पर हमला किया था। साथ ही उनके सुरक्षा कर्मियों (पुलिस कर्मी) के साथ भी झगड़ा किया गया। यह बेहद निंदनीय है। वे इसका विरोध करते हैं। अगर किसी को दिक्कत है तो पुलिस में मुकदमा करना चाहिए। हमला किया जाना उचित नहीं है।

उन्होंने कहा कि उनके साथ ही कुछ और लोगों को भी पुलिस ने हिरासत में लिया गया था। शरनिया ने कहा कि वह कोई केस नहीं करेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि एक सांसद के साथ पुलिस ने जिस तरह का व्यवहार किया है, उसको देखते हुए यह समझा जा सकता है कि आम नागरिकों के साथ किस तरह का व्यवहार होता होगा। सांसद ने कहा कि पुलिस ने हमें जनात पर छोड़ा है।

उल्लेखनीय है कि बीटीसी परिषदीय के दूसरे चरण के लिए 19 सीटों पर 10 दिसम्बर को मतदान होने जा रहा है। इसको लेकर सभी पार्टियां बीटीसी पर कब्जा करने के लिए पूरा जोर लगा रही हैं।

Next Story
Share it