Top
Action India

धूम्रपान रोकने में फर्रुखाबाद प्रदेश में अव्वल

धूम्रपान रोकने में फर्रुखाबाद प्रदेश में अव्वल
X

फर्रुखाबाद। एएनएन (Action News Network)

तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के तहत सार्वजानिक स्थानों पर धूम्रपान और तम्बाकू उत्पादों का उपयोग रोकने में फर्रुखाबाद ने प्रदेश में पहला स्थान प्राप्त किया है। सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू अधिनियम (कोटपा) के क्रियान्वयन का आकलन करने के लिए यह सर्वे लखनऊ स्थित डॉ. भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय और यूपी वालेन्ट्री हेल्थ एसोसिएशन के तरफ से प्रदेश के 15 जिलों में कराया गया था।

कोटपा की धारा चार यानि सार्वजानिक स्थानों पर धूम्रपान, गुटखा आदि के सेवन निषेध के अनुपालन में फर्रुखाबाद 86.74 फ़ीसदी के साथ पहले स्थान पर रहा तो मुरादाबाद 86.63 फीसदी सफलता के साथ दूसरे स्थान पर और 81.24 फ़ीसदी उपलब्धि के साथ कन्नौज तीसरे स्थान पर रहा। जालौन चौथे और अम्बेडकर नगर पांचवें स्थान पर रहा।

कोटपा की धारा छह बी यानि स्कूल कॉलेज आदि शिक्षण संस्थानों से सौ गज के दायरे में तम्बाकू उत्पादों की बिक्री रोकने के मामले में भी फर्रुखाबाद 97.14 फीसदी अनुपालन के साथ पहले स्थान पर दूसरे स्थान पर 83.21 फीसदी अंक के साथ जालौन और 83.07 फ़ीसदी अनुपालन के साथ मुरादाबाद तीसरे स्थान पर रहा।

जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने कहा कि फर्रुखाबाद का नगरीय क्षेत्र एक सर्वे के माध्यम से धूम्रपान मुक्त घोषित किया गया है। जिलाधिकारी ने कहा कि यह अपने जनपद के लिए गर्व की बात है कि नगरीय क्षेत्र धूम्रपान मुक्त घोषित हुआ है। हमें अभी और भी काम करना है कि अपना जनपद पूर्ण रूप से धूम्रपान मुक्त घोषित हो।

तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ. दलवीर सिंह ने बताया कि सरकारी अस्पतालों में तम्बाकू छोड़ने वालों के लिए अलग से काउंसलर नियुक्त किये गए हैं जो व्यक्ति की काउन्सलिंग़ करके उसको तम्बाकू छोड़ने के लिए प्रेरित करते हैं। तम्बाकू नियन्त्रण प्रकोष्ठ के जिला समन्वयक सूरज दुबे ने बताया कि जनपद में कोटपा अधिनियम का उल्लंघन करने वालों की धरपकड़ और उनसे जुर्माना वसूलने की कार्रवाई तेज हुई है।

Next Story
Share it