Top
Action India

फरार जीजेएम सुप्रीमो बिमल गुरुंग तीन सालों बाद आए नजर, नहीं खोला गया गोरखा भवन का गेट

कोलकाता । एक्शन इंडिया न्यूज़

गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) सुप्रीमो बिमल गुरुंग 2017 के पृथक गोरखालैंड आंदोलन में देशद्रोह (यूएपीए) का केस दर्ज होने के तीन सालों बाद बुधवार को पहली बार कोलकाता में नजर आए। वह सॉल्ट लेक इलाके में गोरखा भवन के बाहर झारखंड नंबर‌ की एक गाड़ी में एक प्रेस मीट को संबोधित करने पहुंचे थे। उनके साथ एक भगवाधारी शख्स था जिसने डेर सारी रुद्राक्ष की मालाएं पहनी थी।


उस व्यक्ति की पहचान अभी तक उजागर नहीं हुई है। हालांकि काफी देर तक इंतजार करने के बावजूद गुरुंग के लिए गोरखा भवन का दरवाजा नहीं खोला गया जिसके बाद विमल वहां से बैरंग वापस‌ लौट गए। गुरुंग पर बंगाल सरकार ने यूएपीए के तहत 150 से अधिक मामलों में केस दर्ज किया है। यह पहली बार है जब गुरुंग 2017 में दार्जिलिंग में 104 दिनों के हिंसक आंदोलन के बाद खुले में बाहर आए थे। वह गिरफ्तारी से बचने के लिए तब से छिपे हुए थे।

Next Story
Share it