Top
Action India

पिछले 35 वर्षों से विचार परिवार के सदस्यों को मुफ्त में कानूनी सलाह दे रहे हैं चंद्रमोहन शर्मा

पिछले 35 वर्षों से विचार परिवार के सदस्यों को मुफ्त में कानूनी सलाह दे रहे हैं चंद्रमोहन शर्मा
X

  • संघ से जुड़े शर्मा रह चुके हैं राजनाथ सिंह और जनरल वीके सिंह के चुनाव कानूनी सलाहकार

गाजियाबाद । Action India News

एक ज़माने में गाजियाबाद को कांग्रेस का गढ़ माना जाता था, लेकिन आज राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ या भारतीय जनता पार्टी का गढ़ माना जाता है । गाजियाबाद की राजनीतक परिस्थितियों में इतना बदलाव लाने में आरएसएस और भाजपा के प्रति पूर्ण रूप से समर्पित परिवार ऐसे रहे हैं जो पिछले 70 साल से संघ से जुड़े हैं उनकी कई पीढ़ियां संघ को आगे बढ़ाने का निरंतर कार्य आज भी कर रही हैं।

ऐसी ही एक शख्सियत हैं चंद्रमोहन शर्मा। पेशे से वकील है लेकिन संघ व भाजपा के कट्टर समर्थक हैं। वहसंघ के प्रति समर्पण कितने समर्पित है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वह पिछले 35 वर्षों से संघ विचार परिवार से जुड़े लोगों के मुकदमे भी मुफ्त में ही लड़ते आ रहे हैं।

उन्होंने पूर्व सांसद डॉक्टर रमेश चंद तोमर, पूर्व मेयर आशु वर्मा, भाजपा के पूर्व महानगर अध्यक्ष विजय मोहन, प्रदेश मंत्री वाईपी सिंह और पूर्व विधायक नरेंद्र सिसोदिया (दिवंगत) के विरुद्ध गौ हत्या आंदोलन के मामले मुकदमों में भी उन्होंने मुफ्त लड़े और अदालत ने उन्हें निर्दोष घोषित किया ।

चंद्रमोहन की खास बात यह भी है कि उन्होंने इस दौरान अपने संघ विचार परिवार के लोगों से टाइप कागज आदि का खर्च भी खुद ही वहन करते हैं । वह न केवल खुद बल्कि उनकी पत्नी संध्या शर्मा जो खुद एडवोकेट है भी गाजियाबाद महानगर कि संपर्क प्रमुख राष्ट्रीय सेविका समिति के पद पर लगातार आगे बढ़ रही हैं परिवार के अन्य सदस्य भी विचार परिवार के प्रत्येक कार्यक्रम को संभव बनाने में हमेशा सक्रिय रहते हैं।

वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भारतीय जनसंघ एवं भारतीय जनता पार्टी के स्थापना के समय से सक्रिय रहे प्रभु दयाल शर्मा (जिन्हें दयालु जी के नाम से जाना जाता था) के भतीजे हैं । प्रभु दयाल शर्मा गाजियाबाद ने अपनी सेवा के बल पर वो पहचान बनाई थी एक बार उन्होंने कांग्रेस के तत्कालीन नगर अध्यक्ष सरदार गुलाब सिंह को नगर पालिका के सदस्य का चुनाव पराजित किया था।

चंद्र मोहन शर्मा वर्तमान में केंद्रीय रक्षा मंत्री व भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के चीफ इलेक्शन एजेंट भी रहे हैं । शर्मा बताते हैं कि पूरी तरह से आरएसएस की विचारधारा पर चलते हैं और पूरी तरह से संगठन को समर्पित हैं ।

एक जमाना था जब आजादी के बाद ज्यादातर ब्राह्मण वर्ग कांग्रेस के साथ था जबकि उनका परिवार हमेशा से ही संघ विचारधारा के साथ रहा है। उनके परिवार के सदस्य कई कई बार जेल जा चुके हैं।

Next Story
Share it