Action India

वोल्टेज की समस्या से परेशान 22 गांवों के किसानों ने घेरा बिजली कंपनी का दफ्तर

वोल्टेज की समस्या से परेशान 22 गांवों के किसानों ने घेरा बिजली कंपनी का दफ्तर
X

गुना । एक्शन इंडिया न्यूज़

बुधवार सुबह करीब एक सैकड़ा से अधिक किसानों ने शहर में आकर बिजली कंपनी का घेराव कर दिया। यह सभी किसान कम वोल्टेज की समस्या से परेशान थे। किसानों का कहना था कि इतना कम वोल्टेज आ रहा है कि ट्यूबवैल की मोटर तो क्या बल्ब तक नहीं जल पा रहे। कई बार शिकायत करने के बाद भी जब समस्या का निराकरण नहीं हुआ तो परेशान होकर किसानों को जिला स्थित बिजली कंपनी के कार्यालय पर आकर विरोध प्रदर्शन करना पड़ा। किसानों की संख्या और उनका आक्रोश देख बिजली कंपनी के अधिकारियों ने एक दो दिन में जल्द समस्या निराकरण का आश्वासन दे दिया।

जानकारी के मुताबिक जिले के किसान खरीफ फसल में हुए नुकसान से अभी उबर भी नहीं पाए थे कि रबी सीजन की फसल के लिए नई-नई परेशानी सामने आने लगी हैं। इसी क्रम में किसानों के समक्ष पहली समस्या पर्याप्त बिजली न मिलने की सामने आई है। बिजली वितरण से जुड़ा सबसे पहला मामला ग्राम पंचायत बरखेड़ागिर्द से सामने आया है। खास बात यह है कि बरखेड़ागिर्द में बिजली कंपनी का पावर हाउस है। जिसके जरिए आसपास के करीब 22 गांवों को विद्युत सप्लाई होती है। बिजली कंपनी के अधिकारी के मुताबिक इस पावर हाउस की क्षमता 260 एंपीयर है। लेकिन वर्तमान में इस पर लोड की क्षमता 219 से बढक़र 280 हो गई। जिसके कारण लो वोल्टेज की गंभीर समस्या उत्पन्न हो गई।

ग्रामीणों का कहना है कि बीते एक माह से यह समस्या बनी हुई है। तब से लेकर अब तक लगातार किसान पावर हाउस के अधिकारी-कर्मचारियों को लो वोल्टेज की समस्या से अवगत करा रहे हैं लेकिन समस्या का निराकरण नहीं किया गया। इधर किसानों को यह चिंता सता रही है कि यदि खेत में पानी देने में ज्यादा लेट होते हैं तो बोवनी में भी लेट हो जाएंगे।

यही नहीं आगे चलकर फसल में पानी देने में परेशानी का सामना करना पड़ेगा। बुधवार सुबह एक बार फिर से किसानों को लो वोल्टेज की समस्या के कारण ट्यूबवैल की मोटर चलाने में परेशानी आई तो बरखेड़ागिर्द सहित आसपास के गांव के किसान एकत्रित होकर सबसे पहले ब्लॉक के पावर हाउस पर पहुंचे।

यहां मौजूद स्टाफ ने बताया कि वह अपने स्तर से वरिष्ठ अधिकारियों को पहले ही अवगत करा चुके हैं, इसलिए अब आपकी समस्या का निराकरण यहां से नहीं होगा, आपको गुना ही जाना पड़ेगा। जिसके बाद सभी किसान एकत्रित होकर जिला स्थित बिजली कंपनी के कार्यायलय सुबह 10 बजे के करीब ही पहुंच गए। लेकिन इस दौरान यहां बिजली कंपनी के अधिकारी मौजूद नहीं थे।

किसानों ने बिजली कंपनी के कार्यालय का घेराव करते हुए धरने पर बैठ गए। थोड़ी ही देर में यह सूचना बिजली कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों तक पहुंच गई। जिससे बाद आनन फानन में अधिकारी आए और उन्होंने किसानों की समस्या सुनने के बाद उन्हें एक दो दिन में निराकरण का आश्वासन दिया तब जाकर किसान वापस गांव लौटे।

किसानों ने बताया कि एक महीने से चली आ रही कम वोल्टेज की समस्या से आए दिन ट्रांसफार्मर व ट्यूवबैल की मोटरें फुंक रही थीं। जिन्हें बार बार सही करवाकर किसान काफी परेशान हो चुके थे। जब यह परेशानी बहुत ज्यादा बढ़ गई तब किसानों को एकत्रित होकर गुना जाने के लिए मजबूर होना पड़ा है। बरखेड़ागिर्द पावर हाउस से जुड़े गांव सतनपुर, खिलजा, पिपरोदा, हिनौतिया, परसौदा, इकोदिया, करोद, गेहूंखेड़ा बेंहटा, टकटेया, कांकरा सहित कई गांवों के ग्रामीण लो वोल्टेज की समस्या से परेशान हैं।

यह बोले जिम्मेदार

बडख़ेड़ागिर्द सहित आसपास के कई गांवों के ग्रामीण बड़ी संख्या में बिजली कंपनी के कार्यालय आए थे। कम वोल्टेज की समस्या को दूर करने हमने इंतजाम कर दिए हैं। एक दो दिन में प्रोपर लाइट पहुंचने लगेगी। इस बार बारिश कम होने की बजह से ज्यादा संख्या में ट्यूबवैल मोटरें चलने से पावर हाउस ओवर लोड हो गया। इसी बजह से यह समस्या उत्पन्न हुई है।

Next Story
Share it