Top
Action India

पुष्कर सरोवर पंचतीर्थ स्नान 25 नवम्बर से, श्रद्धालुओं से नहीं आने की प्रशासन ने की अपील

पुष्कर सरोवर पंचतीर्थ स्नान 25 नवम्बर से,  श्रद्धालुओं से नहीं आने की प्रशासन ने की अपील
X

अजमेर । एक्शन इंडिया न्यूज़

कोरोना वायरस का प्रकोप भले ही लगातार बढ़ रहा हो, लेकिन अजमेर में बाहर से आने वाले लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। दीपावली पर्व के बाद से ही जहां पुष्कर तीर्थ में श्रद्धालुओं की आवक बढ़ी तो वहीं अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में जियारत के लिए आने वाले जायरीन की वजह से सम्पूर्ण दरगाह क्षेत्र में पैर रखने की जगह भी नहीं है। जिला प्रशासन ने कोरोना महामारी के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए इस बार श्रद्धालुओं से पुष्कर ना आने की अपील की है,यदि आते हैं तो कोरोना गाइडलाइन की पालना की गुजारिश की है।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए पुष्कर का प्रसिद्ध पशु मेला पहले ही रद्द किया जा चुका है, लेकिन अब 25 नवम्बर से पुष्कर में पंचतीर्थ स्नान शुरू होने जा रहा है। यह पंचतीर्थ स्नान 29 नवम्बर तक चलेगा। पंचतीर्थ स्नान प्रतिवर्ष हिन्दू माह कार्तिक की एकादशी से पूर्णिमा तक होता है। इस बार कार्तिक माह की एकादशी 25 नवम्बर की है और पूर्णिमा 29 नवम्बर की यानि 25 से 29 नवम्बर तक श्रद्धालु पुष्कर सरोवर में स्नान करने के लिए आएंगे। पंचतीर्थ स्नान का सनातन संस्कृति में विशेष धार्मिक महत्व है। माना जाता है कि सृष्टि के रचियता ब्रह्माजी ने पुष्कर में पांच दिनों तक यज्ञ किया था। इस यज्ञ में 20 करोड़ देवी देवता शामिल हुए। यज्ञ वाले स्थल पर ही आज पुष्कर सरोवर हैं।

सावधानी बरतने की अपील: अजमेर के कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने स्पष्ट किया कि पंचतीर्थ स्नान पर रोक लगाने का कोई निर्णय नहीं लिया गया है। राज्य सरकार के दिशा निर्देशों के अनुरूप सभी धार्मिक स्थल खुले हुए हैं। लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए लोगों को सावधानी बरतने की जरुरत है। चूंकि कोरोना वायरस एक दूसरे से मिलने जुलने से भी फैलता है, इसलिए लोगों को सार्वजनिक स्थलों में एकत्रित होने से बचना चाहिए। जरूरी होने पर ही अपने घरों से निकलें। वरिष्ठ नागरिकों को तो ज्यादा सतर्कता बरतने की जरुरत है।

सर्दी के मौसम में अन्य बीमारियों का असर भी बढ़ जाता है। कोरोना की गंभीर स्थिति को देखते हुए ही पुष्कर का पशु मेला रद्द किया गया है। चूंकि अब पुष्कर में पशुओं की खरीद फरोख्त नहीं होगी। इसलिए पशुपालक अपने पशुओं को नहीं लाएं। पुरोहितों ने कहा कि प्रशासन अपनी ओर से लोगों को कोविड-19 के नियमों के प्रति जागरुक कर रहा है, लेकिन लोगों को भी सावधानी बरतने की जरुरत है।

आज एडिशनल एसपी किशनसिंह भाटी, एसडीएम दिलीप सिंह राठौड़, सीआई राजेश मीणा, तहसीलदार अरविंद कविया, ईओ अभिषेक गहलोत, के नेतृत्व में प्रशासन पुलिस और नगर पालिका के कर्मचारियों पुलिसकर्मियों तहसील ओर एसडीएम के कर्मचारियों ने मेला क्षेत्र कपालेश्वर तिराये से नए रंगजी मन्दिर तक पैदल ही कस्बे का घाटों का और ब्रह्मा मंदिर का निरीक्षण किया इस दौरान मेला क्षेत्र और कपालेश्वर तिराये पर लग रखी अस्थाई दुकानों को बंद करवाया । तो बाज़ारो में दुकानदारों द्वारा सड़कों तक फैला रखे अस्थाई अतिक्रमण को हटाकर सामान जब्त किए और बिना मास्क पहने दुकानदारों और लोगों को उन्होंने जमकर फटकार लगाई ।

Next Story
Share it