Action India
झारखंड

राज्यसभा चुनावः आंकड़ों के गणित पर तय होगी जीत हार

राज्यसभा चुनावः आंकड़ों के गणित पर तय होगी जीत हार
X

रांची। एएनएन (Action News Network)

झारखंड में राज्यसभा की दो सीटों के लिए होने वाले चुनाव को लेकर राजनीतिक बिसात बिछनी शुरू हो गई है। दोनों सीटों को झटकने के लिए सत्तासीन गठबंधन सियासी समीकरण सेट करने की तैयारी शुरू करी दी है।

आंकड़ों के गणित की बाजीगरी से तय होगा जीत हार

राज्यसभा चुनाव 26 मार्च को है। इसमें विधायकों की संख्या बल जीत-हार तय होगी। दो सीटों के लिए होने वाले चुनाव में 80 विधायक वोट डालेंगे। एक दुमका सीट खाली है। विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी झामुमो है। कांग्रेस और राजद के साथ गठबंधन होने के कारण झामुमो के पास एक सीट के लिए आंकड़ा पर्याप्त है। गठबंधन के पास 47 सीट है। झाविमो के दो विधायकों प्रदीप कुमार यादव और बंधु तिर्की के कांग्रेस में शामिल होने से 49 सीट हो गयी।

प्रथम वरीयता के हिसाब से जीत के लिए 27 विधायकों के वोट की जरूरत होगी। इसके बाद भी प्रथम वरीयता के 22 वोट गंठबंधन के पास होगी। गठबंधन का प्रयास होगा कि पांच और विधायकों का वोट जुगाड़ कर दोनों सीट प्रथम वरीयता में ही भाजपा से झटक ले। भाजपा के पास 25 विधायक हैं। झाविमो से एक विधायक आने के बाद आंकड़ा 26 हो गया है। अगर, आजसू के दो विधायक का सहयोग मिला जायेगा, तो 27 के आंकड़े को भाजपा आसानी प्राप्त कर लेगी। इस तरह प्रथम वरीयता में एक सीट भाजपा भी आसानी से निकाल सकती है। अगर, भाजपा और गठबंधन दोनों ही दूसरी सीट के लिए प्रथम वरीयता के वोट का जुगाड़ करने में असफल रहे, तो द्वितीय वरीयता के आंकड़ों के गणित पर जीत हार तय होगी।

युपीए ने एक सीट के लिए शिबू सोरेन के नाम की घोषण की

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और कांग्रेस प्रभारी आर पी एन सिंह ने संयुक्त रूप से गुरूवार को दोनों सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने की घोषणा की थी । इसके साथ ही यूपीए ने झामूमों सुप्रीमों शिबू सोरेन को अपना पहला उम्मीदवारी भी घोषित कर दिया है, जबकि दूसरा उम्मीदवार अभी तय नहीं है।

भाजपा हर हाल में एक सीट पर कब्जा चाहती है

भाजपा एक सीट पर हर हाल में कब्जा करना चाहती है। भाजपा की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास, नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश, पूर्व सांसद रवींद्र कुमार राय समेत अन्य नेताओं के नाम की चर्चा है। हालांकि इनके अलावा भाजपा के कई पदाधिकारियों ने राज्यसभा सांसद बनने के लिए लॉबिंग शुरू कर दी है। वहीं, प्रदेश भाजपा के नवनियुक्त अध्यक्ष दीपक प्रकाश की ताजपोशी के बहाने रांची पहुंचे भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और विधायकों के साथ चर्चा की।

युपीए का दूसरा उम्मीदवार कांग्रेस से हो सकता है

राज्यसभा में अपनी मजबूत स्थिति बनाने को लेकर कांग्रेस भी कम से कम एक सीट पर कब्जा करना चाहती है। कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी ने लोकसभा चुनाव के वक्त किये गये वायदे के मुताबिक राज्यसभा चुनाव में एक अल्पसंख्यक नेता के तौर पर अपने पिता और पूर्व सांसद फुरकान अंसारी को उम्मीदवार बनाये जाने की मांग की है। जबकि राजद के वरिष्ठ नेता और पार्टी के लिए फंड की व्यवस्था करने वाले राज्यसभा सांसद प्रेमकुमार गुप्ता फिर से राज्यसभा पहुंचने के प्रयास में लगे हैं। यूपीए फोल्डर की ओर दूसरे सीट को लेकर रणनीति का खुलासा नहीं किया गया है।

Next Story
Share it