Top
Action India

नचौली गांव में बनेगा सशस्त्र सीमा बल का एक केंद्र : कृष्णपाल गुर्जर

नचौली गांव में बनेगा सशस्त्र सीमा बल का एक केंद्र : कृष्णपाल गुर्जर
X
  • कार्यक्रम में एसएसबी जवानों ने ब्रास व पाईप बैंड के माध्यम से राष्ट्रीय एकता का दिया संदेश

फरीदाबाद । एक्शन इंडिया न्यूज़

द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने कहा है कि फरीदाबाद जिले में नचौली गांव की 70 एकड़ जमीन में सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) का एक केंद्र बनाया जाएगा। इसमें एसएसबी की एक हजार से अधिक जवानों की एक वाहिनी तैनात रहेगी। इससे जिला प्रशासन को समय-समय पर कानून व्यवस्था ड्यूटी एवं आपदा के समय तुरंत मदद के लिए एक केंद्रीय अर्धसैनिक बल की मदद मिलेगी। इससे स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगी। केंद्रीय मंत्री मंगलवार सांय सेक्टर-12 टाउन पार्क में सशस्त्र सीमा बल द्वारा आयोजित लाईव बैंड कार्यक्रम के दौरान पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

इस अवसर पर हरियाणा भंडारण निगम के चेयरमैन एवं पृथला विधानसभा क्षेत्र के विधायक नयनपाल रावत, विधायक राजेश नागर, विधायक नरेंद्र गुप्ता, जिला उपायुक्त यशपाल यादव, डीआईडी एसएसबी मुख्यालय एचबीके सिंह, कमांडेंट 25 बटालियन अशोक साजवान, सहायक कमांडेंट कनिष्क चौधरी सहित कई अधिकारी मौजूद थे। सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) द्वारा दो दिवसीय इस राष्ट्रीय एकता दिवस कार्यक्रम का शुभारंभ मंगलवार देर सांय टाउन पार्क सेक्टर-12 में देशभक्ति की मधुर स्वर लहरियों के बीच शुरू हुआ।

इस दौरान कोरोना के तहत जारी की गई गाईडलाईन का पूर्ण पालन करते हुए पहले दिन का यह कार्यक्रम संपन्न हुआ। कार्यक्रम में केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर और प्रदेश के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने बतौर मुक्चय अतिथि शिरकत की। कार्यक्रम में प्रदेश के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने भी कार्यक्रम को बेहतरीन बताया और कहा कि इससे भावी पीढिय़ों में राष्ट्रभक्ति की भावना पैदा होती है।

उन्होंने बताया कि दो दिवसीय इस कार्यक्रम में पहले दिन जिला प्रशासन के अधिकारी, अध्यापक, एसएसबी के अधिकारी, इंडियन आयल व अलग-अलग पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग के अधिकारी व कर्मचारी शामिल शामिल हुए हैं। दूसरे दिन इस कार्यक्रम में जिला फरीदाबाद के आम नागरिक शामिल हो सकेंगे। यह कार्यक्रम एक लाईव बैंड शो है जिसमें ब्रास बैंड व पाईप बैंड के जरिए विभिन्न प्रकार की धुने बजाई गई।

Next Story
Share it