Top
Action India

उल्फा (स्वा) के पांच हार्डकोर कैडर गिरफ्तार

उल्फा (स्वा) के पांच हार्डकोर कैडर गिरफ्तार
X

  • भारी मात्रा में स्वचालित हथियार बरामद

चराईदेव । एएनएन (Action News Network)

असम-अरुणाचल-नगालैंड सीमाई क्षेत्रों में प्रतिबंधित संगठन यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (उल्फा) स्वाधीन (स्वा) के कैडरों के छुपे होने की जानकारी के आधार पर पुलिस व सेना ने संयुक्त रूप से अभियान चलाते हुए पांच हार्डकोर उल्फा (स्वा) कैडरों को गिरफ्तार किया है।चराईदेव जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय में गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान पुलिस अधीक्षक ने बताया कि बुधवार की दोपहर को एक गुप्त सूचना मिली थी कि सपेखाती थाना क्षेत्र के सतियागुरी इलाके के ताराई गांव निवासी भुवन गोगोई के घर में 05 संदिग्ध व्यक्ति पनाह लिए हुए हैं।

सूचना के आधार पर चराईदेव पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में सापेखाती स्थित सेना की 244वीं फील्ड रेजिमेंट, चराइदेव जिला पुलिस ने एक संयुक्त अभियान शुरू किया गया। टीम का नेतृत्व नेतृत्व सेना के सीओ ने किया। गांव को सुरक्षा बलों ने बुधवार की देर शाम तक पूरी तरह से घेर लिया, जिसके बाद घरों की तलाशी शुरू की गई। इस दौरान सुरक्षा बल धीरे-धीरे भुवन गोगोई के घर को पूरी तरह से घेरकर उल्फा (स्वा) के पांच हार्डकोर कैडरों को आत्मसमर्पण करने के लिए चेतावनी दी गई। अपने आपको घिराकर पाकर सभी उग्रवादियों ने आत्मसमर्पण कर दिया।

पकड़े गए उग्रवादियों की पहचान अपूर्बा गोगोई उर्फ आरोहन असम, सिमांता गोगोई उर्फ मैइना, बिराज असम उर्फ योगेन गोगोई, लक्ष्यजीत गोगोई उर्फ ध्रुब असम और सिद्धार्थ गोगोई उर्फ चिन्मय असम के रूप में की गई है।

गिरफ्तार पांचों में अपूर्बा और सिमांता उल्फा (आई) के सबसे कुख्यात और मोस्ट वांटेड कैडरों में शामिल हैं। दोनों आईईडी बनाने के विशेषज्ञ है। दोनों 2012 से शिवसागर और चराइदेव जिलों में लगातार उग्रवादी गतिविधियों को अंजाम देते रहे हैं। दोनों पर कई किडनैपिंग, हत्या और जबरन वसूली मामलों के अलावा कानुबारी चाय बागान की फैक्ट्री पर गोलीबारी करने शामिल थे। सापेखाटी पेट्रोल पंप पर गोलीबारी करने, टिमोन हाबी टी एस्टेट मैनेजर का अपहरण करने के साथ ही पिछले दिनों स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सोनारी थानांतर्गत टियोक घाट इलाके में बम विस्फोट में भी शामिल थे।

पकड़े गए उग्रवादी निहत्थे थे। पूछताछ के बाद उग्रवादियों की निशानदेही में गुरुवार की सुबह पुलिस टीम ने घर से दूर जंगल में अभियान चलाकर जमीन में छुपाकर रखे गए भारी मात्रा में हथियार बरामद किया है।

बरामदगी हथियार व गोला-बारूद में एमक्यू 81 असॉल्ट राइफल- 03, एमक्यू 81 की 08 मैगजीन, एमक्यू 81 के 323 कारतूस, 7.65 मिमी की 01 पिस्तौल (रूसी निर्मित), प्वाइंट 22 मिमी (फैक्टरी मेड) 01 मैगजीन, प्वाइंट 22 बोर की 02 कारतूस, 7.7.65 मिमी पिस्तौल की दो कारतूस, जिलेटिन जैसे विस्फोटक पदार्थ 02 किग्रा, सात पीस फ्यूज वायर, 16 डेटोनेटर के अलावा उल्फा (आई) वर्दी के अलावा अन्य सामग्री जिसमें दवाइयां आदि वस्तुएं शामिल हैं। पुलिस गिरफ्तार कैडरों के विरूद्ध आवश्यक कानूनी कार्रवाई शुरू किया है। पुलिस ने 05 उल्फा (स्वा) कैडरों के साथ ही जिस व्यक्ति के घर में छुपे हुए थे, उसको भी गिरफ्तार किया गया है।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल कोरोना संक्रमण को लेकर जिला प्रशासन की तैयारियों का जायजा लेने के गुरुवार को जाने वाले थे, इस बीच उग्रवादियों की इतनी बड़ी संख्या में गिरफ्तारी और भारी मात्रा में हथियारों की बरामदगी से इलाके में सनसनी व्याप्त है।

पुलिस सूत्रों ने बताया है कि गिरफ्तार किए गए सभी उल्फा (स्वा) कैडरों की कोरोना संक्रमण से संबंधित जांच की जा रही है। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद उन्हें क्वारेनटिन सेंटर में अलग से रखा जाएगा। कारण ये सभी कैडर पड़ोसी देश म्यांमार से भारत में घुसपैठ किए हुए हैं। ऐसे में इनके कोरोना संक्रमित होने की भी संभावना हो सकती है।

Next Story
Share it