Top
Action India

एम्स से अब तक 1472 रोगी ठीक होने के बाद डिस्चार्ज

एम्स से अब तक 1472 रोगी ठीक होने के बाद डिस्चार्ज
X

  • वीआरडी लैब में अब तक 94 हजार से ज्यादा टेस्ट

रायपुर । Action India News

छत्‍तीसगढ़ के रायपुर स्‍थ‍ित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान से अब तक 1472 कोविड-19 रोगी पिछले छह माह के दौरान ठीक होने के बाद डिस्चार्ज कर दिए गए हैं। इनमें 163 रोगियों की उम्र 60 वर्ष या इससे अधिक रही है। एम्स का रिकवरी रेट सबसे अधिक रिकवरी रेट में से एक माना जा रहा है।

निदेशक प्रो. (डॉ.) नितिन एम. नागरकर के अनुसार अब तक 730 पुरुष, 472 महिलाएं और 270 बच्चे कोविड-19 से ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किए जा चुके हैं। वीआरडी लैब में 94370 टेस्ट हो चुके हैं जिनमें 2997 सैंपल पॉजीटिव पाए गए हैं।

लैब में पिछले 24 घंटे में 658 टेस्ट किए गए जिनमें 18 पॉजीटिव पाए गए। इनमें 13 रायपुर के, 03 दुर्ग के, 01 बिलासपुर का और 01 उड़ीसा का सैंपल शामिल है। उन्होंने कहा है कि किसी भी उम्र वर्ग में रिकवरी रेट सबसे अच्छा बना हुआ है। रोगियों को कोविड-19 से घबराने की आवश्यकता नहीं है। एम्स उनकी रिकवरी के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

स्त्री रोग विभाग में अब तक 75 गर्भवती महिलाओं का कोविड-19 का इलाज किया गया है। इनमें पांच की ऑपरेशन के माध्यम से डिलीवरी और 4 की नार्मल डिलीवरी भी करवाई गई है। वर्तमान में 8 गर्भवती महिलाएं यहां उपचार प्राप्त कर रही हैं। यह भी सफलता का एक नया प्रतिमान है।
उन्होंने कहा कि एम्स के कोविड-19 वार्ड में प्रदेश के बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं और बच्चे रोगी एडमिट किए जा रहे हैं।

इनमें से 60 वर्ष या अधिक उम्र के बुजुर्ग रोगियों को मनोवैज्ञानिक रूप से कुछ दिक्कतों का भी सामना करना पड़ रहा है। ऐसे ही बलौदा बाजार के एक रोगी को पिछले दिनों बिलासपुर के मानसिक चिकित्सालय से एम्स रेफर किया गया था। 10 दिन के उपचार के बाद यह रोगी ठीक होने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया।

Next Story
Share it