Action India
झारखंड

चितुर से पलामू पहुंचे झारखंड के 1796 श्रमिक

चितुर  से पलामू पहुंचे झारखंड के 1796 श्रमिक
X

मेदिनीनगर । एएनएन (Action News Network)

आंध्रप्रदेश के चितुर से शनिवार को श्रमिक स्पेशल ट्रेन पलामू के डालटनगंज रेलवे स्टेशन पहुंची।
स्पेशल ट्रेन से कई श्रमिक, जो लॉक डाउन के कारण वहां फंसे हुए थे, उन्हें झारखंड लाया गया। इसमें पलामू प्रमंडल के 746 श्रमिक सहित झारखंड के सभी 24 जिलों के 1796 श्रमिक पहुंचे हैं, जो चितुर (आंध्र प्रदेश) के विभिन्न इकाईयों में कार्यरत थे। सभी श्रमिकों को डालटनगंज रेलवे स्टेशन पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए सकुशल उतारा गया। चितुर से डालटनगंज पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन में निम्न जिलों के श्रमिक आये जिनमें गढ़वा -337, पलामू 319, गिरिडीह 136, बोकारो 100, पाकुड़ 93, लातेहार 90, रांची 86, पूर्वी सिहभूम 82, दुमका 68, हजारीबाग 65, लोहरदगा 65, देवघर 61, गोड्ड, 59, जामताड़ा 45, कोडरमा 44, पश्चिमी सिहभूम 29, सिमडेगा 26, चतरा. 24, धनबाद, 23, गुमला 17, सरायकेला-खरसावां 10, साहेबगंज 7, खूंटी, 6 व रामगढ़.4 शामिल हैं।

जिला प्रशासन द्वारा सभी श्रमिकों का रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या-1 पर बने अस्थाई मेडिकल सेंटर पर स्क्रीनिंग की गयी। ट्रेन के एक-एक डब्बे को खोलकर श्रमिकों को उतारा गया और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए प्लेटफार्म संख्या-1 पर अस्थाई रूप से बने स्वास्थ्य विभाग के स्टॉल पर थर्मल स्कैनिंग और स्वास्थ्य परीक्षण की कार्यवाही की गयी। कोरोना संक्रमणकाल में पलामू प्रशासन द्वारा श्रमिकों, महिलाओं-बच्चें को गृह जिला भेजने की व्यवस्था की गयी है। श्रमिक अपनी खुशी जाहिर करते हुए अपने गृह जिला जा रहे हैं, जो लॉक डाउन के कारण वहां फंसे हुए थे। डालटनगंज रेलवे स्टेशन पहुंचते ही श्रमिकों के चेहरे पर सुकून और खुशी का भाव था।

पलामू जिला प्रशासन की ओर से सभी श्रमिकों को उनके गंतव्य तक भेजने का कार्य किया जा रहा है। पलामू जिले के श्रमिकों को सम्मान रथ(बस) पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बैठाकर चियांकी एयरफिल्ड परिसर में बने सहायता केन्द्र भेजा गया, जबकि अन्य जिलों के श्रमिकों को भी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सम्मान रथों से उनके गृह जिला पहुंचाया जा रहा है। श्रमिकों से आरोग्य सेतू एप्प डाउनलोड कराया जा रहा है। उपायुक्त डॉ शांतनु कुमार अग्रहरि ने कहा कि श्रमिकों के पलामू आगमन और उनकी सुरक्षा को लेकर पलामू जिला प्रशासन गंभीर है।

Next Story
Share it