Action India
अन्य राज्य

मास्क और सैनिटाइजर के नाम पर पार्षद के खाते से उड़ाए 20 हजार

छिंदवाड़ा । एएनएन (Action News Network)

लॉकडाउन के दौरान लोगों ने ठगी का नया तरीका ढूंढ लिया है। अब मास्क और सैनिटाइजर के नाम पर फोन कॉल करके पार्षदों से ठगी की जा रही है। शहर के वार्ड क्रमांक 41 के पार्षद मीना मनोहर गेडाम के खाते से तो तहसीलदार बनकर किसी ने 20 हजार रुपये उड़ा लिए।

शनिवार को शहर के पार्षदों को किसी ने एसडीएम और तहसीलदार तो किसी ने सचिवालय का अधिकारी बनकर फोन किया और जनता में मास्क और सैनिटाइजर बांटने की बात कही गई। कहा गया कि सरकार आपको मास्क और सैनिटाइजर बांटने के पैसे देगी। कुछ पार्षदों ने तो फर्जी कॉल को पकड़ लिया और जब पूछताछ शुरू की तो कॉल करने वाले ने कॉल काटकर मोबाइल बन्द कर लिया, लेकिन एक सीधे पार्षद आखिर उनकी बात में फँस गए और अपने एटीएम का चार अंकों का नम्बर दे दिया। फिर उनके खाते से 20 हजार रुपये गायब हो गए।

वार्ड 41 की पार्षद के पति मनोहर गेडाम ने बताया कि उन्हें शनिवार शाम को फोन आया। फोन करने वाले ने कहा में तहसील आफिस से बोल रहा हूँ और मास्क और सैनिटाइजर जनता में बांटने की बात करने लगा। घुमा-फिराकर उसने गेडाम से उनके बैंक के खाते की जानकारी और एटीएम के नम्बर माँग लिया। वह बोला कि तहसील के कर्मचारी कल आकर आपको मास्क और सैनिटाइजर दिलवा देंगे, आप जनता में बांट देना। इसके बाद उनके 2 खातों से 7 हजार 2 सौ 99 रुपये और 13 हजार रुपये कुल मिलाकर 20 हजार 2 सौ 99 रुपये निकाल लिए गए। जिसकी शिकायत गेडाम ने कोतवाली थाने में भी की है।

ऐसा ही एक फोन वार्ड 42 के पार्षद अनिता दिनेश मालवी और 44 की पार्षद अनिता खंडेलवाल को भी आया।जिसे समझकर उन्होंने पूछताछ शुरू की तो फर्जी कॉल करने वाले ने फोन काटकर मोबाइल बन्द कर लिया।इनको फोन करने वाला स्वयं को भोपाल सचिवालय का अधिकारी बता रहा था। एसपी विवेक अग्रवाल ने सभी बैंक उपभोक्ताओं को जागरूक रहने की अपील की है। उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं से बचे। किसी को अपने बैंक खातों और एटीएम की गोपनीय जानकारी न दें। ये जानकारियां पूरी तरह गोपनीय होती है और कोई भी बैंक या बैंक अधिकारी आपसे ये नही पूछ सकते।

Next Story
Share it