Top
Action India

कोविड-19 की झूठी नेगेटिव रिपोर्ट के साथ कांगड़ा सीमा पर पंहुचा पयर्टक जोड़ा, धोखाधड़ी का मामला दर्ज

धर्मशाला । Action India News

प्रदेश सरकार द्वारा अनलॉक दो में पयर्टकों के लिए हिमाचल के दीदार की अनुमति के साथ ही पयर्टकों ने यहां का रूख करना शुरू कर दिया है। हालांकि सरकार के इस निर्णय को लेकर विपक्ष सहित बुद्धिजीवी वर्ग भी सरकार की आलोचना कर रहा है, बावजूद इसके पयर्टकों को हिमाचल आने की अनुमति के साथ ही कोरोना महामारी के बीच पयर्टक प्रदेश की खूबसूरत वादियों का दीदार करने पंहुचने लगे हैं।

सरकार ने बेशक प्रदेश में कोरोना को रोकने के उपायों के बीच बाहरी राज्यों से आने वाले पयर्टकों के लिए कोविड-19 की नेगेटिव टेस्ट रिपोर्ट की शर्त रख दी है लेकिन कई लोग इसका भी गलत फायदा उठाने में जुट गए हैं। ऐसा ही मामला बुधवार बीती देर रात कांगड़ा जिला के डमटाल पुलिस थाना के तहत सामने आया है।

पुलिस ने यहां पर एक पयर्टक जोड़े के खिलाफ कोविड-19 की झूठी नेगेटिव रिपोर्ट लाने का मामला दर्ज किया है। इस पयर्टक जोड़े ने अपनी गाड़ी से जिला के भदरोया बैरियर से कांगड़ा जिला की सीमा पर प्रवेश किया।

पुलिस ने उन्हें रोका और उनसे कोविड-19 की नेगेटिव रिपोर्ट दिखाने को कहा तो उन्होंने जो रिपोर्ट दिखाई वह झूठी पाई गई। पुलिस ने इन दोनों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करते हुए धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर दोनों को परौर स्थित संगरोध केंद्र भेज दिया है।

एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन ने बताया कि इस पयर्टक जोड़े से प्राप्त हुई कोविड-19 रिपोर्ट झूठी निकली है। पुलिस ने इन दोनों के खिलाफ धोखधड़ी का मामला दर्ज करते हुए इन्हें परौर स्थित संगरोध केंद्र भेज दिया है। उन्होंने ऐसे लोगों को आगाह किया है कि उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

उन्होंने बताया कि पुलिस इस मामले की जांच कर रही है तथा पता लगाया जा रहा है कि यह रिपोर्ट किसी लैब या अस्पताल से लाई गई है। पुलिस ने इस बात को सम्बधित राज्य की पुलिस से भी साझा किया है। गौर हो कि कई जगह बाहरी राज्यों में कोविड-19 की रिपोर्ट नेगेटिव देने का धंधा भी शुरू हुआ है जिसके चलते हिमाचल पुलिस सर्तक है।

Next Story
Share it