Action India
अन्य राज्य

आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी जोशीमठ से पांडुकेश्वर रवाना

आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी जोशीमठ से पांडुकेश्वर रवाना
X

  • पांडुकेश्वर से भगवान उद्धव और कुबेर के साथ देव डोलियां 14 मई को पहुंचेंगी बदरीनाथ धाम

  • 15 मई को प्रातः साढ़े चार बजे खुलेंगे धाम के कपाट

गोपेश्वर । एएनएन (Action News Network)

बदरीनाथ धाम के कपाट इस यात्रा वर्ष के लिए शुक्रवार 15 मई को प्रातः चार बजकर 30 मिनट पर खुल जाएंगे। बदरीनाथ धाम में देवस्थानम् बोर्ड ने कपाट खुलने से पूर्व की तैयारियां पूरी कर ली हैं। कपाट खुलने की प्रक्रिया बुधवार से शुरू हो गई है। प्रातः नृसिंह मंदिर जोशीमठ में पूजा-अर्चना यज्ञ-हवन के पश्चात रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी सहित आदि शंकराचार्य की गद्दी और गाडू घड़ा (तेल कलश) शारीरिक दूरी का पालन करते हुए योग ध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर के लिए रवाना हुआ। इस अवसर पर स्थानीय श्रद्धालु कम संख्या में दिखे। गद्दी के साथ कपाट खुलने की प्रक्रिया से जुड़े सीमित संख्या में देवस्थानम् बोर्ड के कर्मचारी, हक हकूकधारियों ने पांडुकेश्वर के लिए प्रस्थान किया।

इस दौरान मास्क पहनने के साथ ही शारीरिक दूरी का भी पूजा ध्यान रखा गया। बुधवार अपराह्न तक सभी लोग योग-ध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर पहुंच जाएंगे उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम् बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा.हरीश गौड़ ने बताया कि बुधवार को सभी देव डोलियां योग ध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर में प्रवास करेंगी। 14 मई भगवान उद्धव, कुबेर, रावल व आदि गुरु शंकराचार्य जी की गद्दी, गाडू घड़ा तेलकलश बदरीनाथ धाम पहुंचेगे।

15 मई को प्रातः चार बजकर 30 मिनट पर बदरीनाथ धाम के कपाट खुल जाएंगे। उन्होंने बताया कि श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के साथ ही बदरीनाथ धाम में माता मूर्ति मंदिर, आदि गुरु शंकराचार्य मंदिर, आदि केदारेश्वर मंदिर तथा परिक्रमा स्थल के सभी मंदिर माता लक्ष्मी मंदिर, गणेश मंदिर, तथा भविष्य बदरी मंदिर सुभाई तपोवन के कपाट भी खुल जाएंगे। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कपाट खुलने के दौरान शारीरिक दूरी का ध्यान रखने, मास्क पहनने और साफ-सफाई रखने के आदेश सब को दिए गए हैं।

उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी को देखते हुए उत्तराखंड चारधाम यात्रा पर रोक है। अभी कपाट खुलने की प्रक्रिया से जुड़े लोगों की उपस्थिति में कपाट खुल रहे हैं। महामारी टलने के पश्चात चारधाम यात्रा शुरू होने की उम्मीद है। केदारनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल को खुल चुके हैं। गंगोत्री-यमुनोत्री धाम के कपाट भी 26 अप्रैल को खुल एक थे। द्दितीय केदार मद्महेश्वर के कपाट 11 मई को खुले। तृतीय केदार तुंगनाथ के कपाट 20 मई व चतुर्थ केदार रुद्रनाथ के कपाट 18 मई को खुलेंगे।

Next Story
Share it