Action India
अन्य राज्य

भीलवाड़ा जिले में टिड्डी दल की रोकथाम के लिए हवाई स्प्रे हो

भीलवाड़ा । एएनएन (Action News Network)

जिले के आसींद, हुरड़ा व बनेड़ा रायला क्षेत्र के कुछ गावों में टिड्डी दल पहुंचने से किसानों के खेतों में खड़ी कपास व रजका की फसलों व खेतों में भारी नुकसान से किसान भयभीत है। काश्तकारों की फसले चट कर गयी है। मांडल विधायक रामलाल जाट सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने क्षेत्र में हवाई स्प्रे कराने की मांग की ताकि टिड्डी दल को भगाया जा सके। इन लोगों ने कहा कि नुकसान बहुत अधिक हुआ है केंद्र व राज्य सरकार को इसका आंकलन अभी से शुरू करा देना चाहिए। यह नुकसान कोरोना से भी भारी होगा। आसींद विधायक जब्बरसिंह सांखला ने भी जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर इस संबंध में काश्तकारों को हो रही समस्या की जानकारी देकर सर्वे कराकर नुकसान का आंकलन कराने की मांग की है।

प्रदेश सरकार के टिड्डी नियंत्रण दल जालौर से अतिरिक्त निदेशक बीआर मीणा तथा टिड्डी नियंत्रण दल फरीदाबाद के राजेश चोधरी ने बताया कि यहां क्षेत्र में कंटीली झांडियों के बावजदू 10 टीमों ने पूरे भरसक प्रयासों से टिड्डी को समाप्त करने का कार्य किया है।

भीलवाड़ा के कृषि उपनिदेशक रामपाल खटीक ने बताया कि 10 दमकलों के सहयोग से कीटनाशक दवा का छिड़काव कराया गया है। काश्तकारों ने भी लगभग 50 टेक्ट्ररों की सहायता से छिड़काव किया है। इसे नियंत्रित करने का पूरा प्रयास किया गया है। जालोर से भी टिड्डी दल नियत्रंण दल पहुंचा है। टिड्डी दल रायला-ईरांस क्षेत्र से कूच कर रहा है। हवा के रूख के आधार पर इनका मूवमेंट हो रहा है। कोटा की ओर जाने की संभावना है। नवग्रह आश्रम के संस्थापक व प्रगतिशील काश्तकार हंसराज चोधरी ने बताया कि हमारे क्षेत्र में पहली बार टिड्डी दल के आने व खेतों पर फसलों को चट करने से यह नुकसान कोरोना से भी भारी हो गया है। केंद्र व राज्य सरकार को पहल कर हवाई स्प्रे कराना चाहिए।

मांडल विधायक रामलाल जाट ने कहा है कि राज्य सरकार को अवगत कराया जा चुका है। केंद्र सरकार को पहल कर हवाई स्पे्र का प्रबंध करना चाहिए। इसके बिना इसे रोक पाना मुश्किल होगा। आसींद के ग्राम पंचायत ईरांस व बदनोर के पाटन क्षेत्र में व आस पास के गावं खारडी माधोपुरा ईनाणी खेड़ा में टिड्डी दल ने किसानों के खेतों में हरा चारे सहित अन्य फसलों को भारी नुकसान पहुचा है। इसके अलावा टिड्डी दल ने संग्रामगढ़, लक्ष्मीपुरा, भेरूपुरा, ओझियाणा, मोटरास, बालापुरा, जयनगर, शंभुगढ़, बरसनी, आमेसर, सोड़ार, सरेरी में भी नुकसान पहुंचाया है।

Next Story
Share it