Action India
अंतर्राष्ट्रीय

आखिर बुर्का खरीदने पर क्यों भड़क रहे हैं पाकिस्तान के लोग

आखिर बुर्का खरीदने पर क्यों भड़क रहे हैं पाकिस्तान के लोग
X

सोशियल मीडिया में स्कूली छात्राओं की बुर्के में वायरल हो रही तश्वीर के ऊपर पाकिस्तानी लोग भड़क उठे। दरअसल खैबर पख्तून्वा प्रान्त के एक पार्षद ने सरकारी कोष से कुछ धनराशी निकाल कर 90 बुर्के खरीदे थे। ये बुर्के सरकारी माध्यमिक विद्यालय की छात्राओं के लिए खरीदे गये थे। पार्षद मुजफ्फर शाह ने कहा कि ये बुर्के उन्होंने गरीब अभिभावकों के अनुरोध करने पर ही खरीदे थे। साथ ही उनका ये भी कहना है कि गाँव की 90 प्रतिशत लडकियां पहले से ही बुर्का पहनती हैं। इसलिए उन्हें लगा कि गरीब बच्चों को नया बुर्का दिलवाना चाहिए। इस से पहले शाह सरकारी कोष का उपयोग विद्यालय में शौचालय बनवाने, फर्नीचर खरीदने तथा सोलर पैनल लगवाने के लिए किया था। लेकिन सोशियल मीडिया पर बुर्के वाली तश्वीर के ऊपर वहाँ के लोगों ने बवाल खड़ा कर दिया।

सथानीय जनता का कहना है कि पहली तस्वीर में लड़किओं ने बुर्का पहना है और दुरी तस्वीर में बुर्के डेस्क पर पड़े नज़र आ रहे हैं। इस कार्य को फातिमा वाली नामक महिला ने शिक्षा के स्तर में सुधार, उत्पीडन तथा दुष्कर्म के ऊपर सजा देने के बजाय परिधान खरीदना बताया। उनका कहना है कि इन सब बातों को दबाने के लिए पार्षद परिधान खरीद कर कोष का दुरपयोग कर रहे हैं। इसके ऊपर गुलालई इश्माइल ने भी अपना सहयोग देकर गुस्साए लोगों की सराहना की है। ये सब देखकर गुलालई ने कहा कि ये सब देखकर मुझे बहुत ही खुशी हो रही है कि पाकिस्तान में भी महिलाओं के पक्ष में अधिकतर लोग खड़े हो रहे हैं, समय बदल रहा है।

Next Story
Share it