Action India
अन्य राज्य

एम्बुलेंस देने से मना करने निजी हॉस्पिटल में बनेंगे एकांतवास केन्द्र

एम्बुलेंस देने से मना करने निजी हॉस्पिटल में बनेंगे एकांतवास केन्द्र
X

कोटा । एएनएन (Action News Network)

राज्य सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन द्वारा निजी अस्पतालों की एम्बुलेंस अधिग्रहित करने के मामले में कोटा एडीएम सिटी आरडी मीणा तुगलकी फरमान जारी किया है। मीणा का कहना है कि जो निजी अस्पताल कोरोना के लिए अधिग्रहित की गई एम्बुलेंस को जिला प्रशासन को देने से मना करेगा, उसके अस्पताल को एकांतवास केन्द्र के लिए अधिग्रहित कर लिया जाएगा।

राज्य सरकार के निर्देश पर कोटा जिला कलेक्टर ओम कसेरा ने निजी हॉस्पिटल संचालकों से उनकी एंबुलेंस को अधिकृत करने के आदेश जारी किए गए है। इनमें कई अस्पताल ऐसे भी शामिल है जिनके पास आपातकालीन सेवा के लिए एक या दो एंबुलेंस अस्पताल में मौजूद है। जिला प्रशासन द्वारा जारी आदेशो में एम्बुलेंस के साथ ड्राइवर को भी मांगा गया है। जिसके कारण एम्बुलेंस चालक भी कोरोना में ड्यूटी देकर अपनी ओर अपने परिवार की जान को जोखिम में नहीं डालना चाहते। ड्राइवर अपनी नौकरी छोड़ने को मजबूर हैं। ऐसे में निजी अस्पताल संचालक अपनी समस्या जिला प्रशासन के सामने रखें, उससे पहले एडीएम सिटी आरडी मीणा ने तुगलकी फरमान जारी कर दिया।

प्रशासन ने पहले जिन एम्बुलेंस को अधिग्रहित किया था, उनका भुगतान नहीं हुआ :

कोरोना संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन ने अप्रैल माह में ही कोटा में निजी एम्बुलेंस चालको से उनकी एम्बुलेंस अधिग्रहित करने के आदेश जारी कर दिए थे। इन एम्बुलेंसों को दो माह का समय पूरा होने जा रहा है लेकिन अब तक जिला प्रशासन या चिकित्सा विभाग की ओर से निजी एम्बुलेंस्‍ चालकों के मालिकों को इनका भुगतान तक नहीं किया गया। ऐसे में निजी एम्बुलेंस संचालकों के सामने ड्राइवर के वेतन की समस्या खड़ी हो गई है।

Next Story
Share it