Top
Action India

कोरोना महामारी के बीच नये रेट और सुरक्षा के साथ शुरू हुआ बारा टोल प्लाजा

कोरोना महामारी के बीच नये रेट और सुरक्षा के साथ शुरू हुआ बारा टोल प्लाजा
X

  • टोल मैनेजर ने टोल परिसर कराया सेनेटाइज, कर्मियों को उपलब्ध कराई गई सुरक्षा किट

  • मौजूदा हालात में एनएचएआई द्वारा टोल वृद्धि के निर्णय को जनता ने बताया जनहित विरोधी

कानपुर देहात । एएनएन (Action News Network)

देश मे कोरोना के चलते बन्द टोल प्लाज़ाओं में टोल वसूलने के सिलसिला शुरू हो गया है। एक अप्रैल से बदले रेट के साथ इसकी शुरुआत हो गई है। इसी कड़ी में नेशनल हाइवे दो पर बने बारा टोल ने भी वहां से गुजरने वाले लोगों से टोल लेना शुरू कर दिया है। टोल पर मौजूद लोग सरकार द्वारा दिये गए मानकों के साथ वहां कार्य कर रहे हैं। हालांकि टोल वृद्धि को लेकर मौजूदा समय को जनहित में नहीं देखा जा रहा है।

कोरोना वायरस के चलते देश के सभी टोल प्लाज़ाओं में टोल वसूली का काम बंद कर दिया गया था। देश मे पहला लॉक डाउन 21 दिनों का हुआ फिर हालात न सुधरने पर लॉक डाउन का दूसरा चरण भी शुरू कर दिया गया जो कि फिलहाल तीन मई तक है। इसी दौरान लगातार देश आर्थिक रूप से पीछे जा रहा था जिसको लेकर सरकार ने 20 अप्रैल से कुछ जरूरी कार्यों के लिए छूट दी है। इस दौरान सभी नेशनल हाइवे के टोल प्लाज़ाओं को टोल वसूलने के आदेश दे दिया गया है। इसी कड़ी में कानपुर को दिल्ली और झांसी से जोड़ने वाले नेशनल हाइवे दो में बने बारा टोल प्लाजा में भी टोल वसूली शुरू हो गई है।

आपको बता दें, यह टोल प्लाजा कानपुर देहात के अकबरपुर थानाक्षेत्र में बारा गांव में बना हुआ है। यह बहुत ही बड़ा टोल प्लाजा है जहां पर कानपुर से गुजरने वाला रस्ता एक ओर इटावा से दिल्ली जाता है तो वहीं दूसरा रास्ता कालपी से झांसी जाता है। इसके चलते यहां से लगातार प्रतिदिन कई हजार गाड़ियां यहां से गुजरती हैं और इस टोल से सरकार को काफी कर जाता है। यहां पर काम करने वाले लोगों की संख्या भी अधिक है। जिसमें टोल ने अपने चुने हुए कर्मचारियों के साथ देर रात से कार्य की शुरुआत की है।

इस सम्बंध में बारा जोड़ प्लाजा के मैनेजर मनोज शर्मा ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए यहां पर आने वाले सभी कमर्चारियों ने सुरक्षा के साथ काम शुरू किया है। सभी ने हाथों में ग्लब्स और मुहं पर मास्क लगाए हुए हैं। लगातार सभी समय—समय पर खुद को सेनेटाइज भी कर रहे हैं। यहां पर रात से टोल वसूली का सिलसिला शुरू हो चुका है। टोल के आसपास को कार्य की शुरुआत से पूर्व सेनेटाइज कराया गया था।

टोल रेट में हुई वृद्धि

सभी टोल प्लाजाओं का रेट बदल चुका है और रेट में कुछ वृद्धि हुई है। जहां बारा टोल प्लाजा से गुजरने पर एक तरफ के पहले 120 रुपये देने पड़ते और आने जाने के लिए 210 रुपये देने पड़ते थे। अब यह बढ़कर एक तरफ का 145 तो वहीं दोनों ओर का 220 हो गया है। एक अप्रैल से जब से रेट बदला है तब से लॉक डाउन था और टोल में वसूली भी बन्द थी। सरकार ने 20 अप्रैल से इसे खोल दिया है और इसी के चलते नए रेट के साथ इसकी शुरुआत हो गई है।

संकट के दौर में एनएचएआई का टोल वृद्धि करना सही नहीं

वैश्विक आपदा के चलते देशभर में लॉक डाउन चल रहा है। जिसके चलते सभी व्यापारिक प्रतिष्ठानों के साथ सरकारी व अन्य छोटे—बड़े कारोबार पूरी तरह से बंद हैं। ट्रेडर्स व्यापारी दीपक अवस्थी, सर्राफा दुकानदार मुकेश वर्मा, किराना व्यापारी नेता ज्ञानेश मिश्र, किसानी से जुड़े रंजीत शर्मा, प्रतियोगी छात्र अनिल सैनी, विपिन कुमार का कहना है कि लॉक डाउन के बाद भी आर्थिक स्थिति में सुधार की गुंजाइश काफी मुश्किल भरा है। इससे उबरने और लोगों की जिंदगी पटरी पर लौटने में समय लगेगा। ऐसे में केन्द्र सरकार से जुड़े मुख्य उपक्रम में शामिल एनएचएआई का टोल वृद्धि किया जाने का निर्णय गलत है और इसे टाल दिया जाना चाहिए। यह वृद्धि देश में बिगड़े हालत को देखते हुए जनहित में नहीं है। यह लोगों की जेब काटने वाला निर्णय है और इस ओर केन्द्रीय सड़क एंव परिवहन विभाग मंत्री नितिन गडकरी को संज्ञान लेना चाहिए।

Next Story
Share it