Action India
अन्य राज्य

सैलानियों के लिए अभी नहीं खुलेगा पर्यटन स्थल सीतामढ़ी

सैलानियों के लिए अभी नहीं खुलेगा पर्यटन स्थल सीतामढ़ी
X

  • मां सीता और हनुमानजी की आदमकद प्रतिमा का दर्शन नहीं कर पाएंगे भक्त

  • कोरोना संक्रमण को देखते हुए मंदिर प्रशासन ने किया फैसला

भदोही । एएनएन (Action News Network)

लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण काल में भी मंदिरों के कपाट सोमवार की सुबह खुल गए। इस दौरान भक्तों ने सामाजिक दूरी का पूरा खयाल रखा और अपने आराध्य का दर्शन किया। लेकिन वाल्मीकि तपस्थली में स्थित सीता समाहित स्थल फ़िलहाल बढ़ते संक्रमण को देखते हुए नहीं खुलेगा। जिसकी वजह से भक्त मां सीता और हनुमानजी की आदमकद प्रतिमा का दर्शन-पूजन नहीं कर पाएंगे। मंदिर प्रशासन ने 30 जून के बाद मंदिर खोलने का फैसला किया है।

भदोही जिले के सीतामढ़ी में गंगा तट पर भव्य
सीता मंदिर की स्थापना हुई है। त्रेता में मां सीता ने अपना वनवासकाल यहीं बिताया था। यह वही वाल्मीकि आश्रम है, जहां मां सीता ने लव-कुश कुमारों को जन्मदिया था। दिल्ली की संस्था लायड पुंज की तरफ़ से भव्य सीता मंदिर का निर्माण किया गया है। यह निर्माण उसी स्थल पर किया गया है, जहां मां सीता धरती में समाहित हुई थी। यहीं पर हनुमानजी कि 108 फीट ऊँची भव्य प्रतिमा का निर्माण हुआ है। यह इलाका मुख्य पर्यटन स्थल बन गया है। यहां हर साल हजारों की संख्या में देशी विदेशी शैलानी आते हैं।

मंदिर के प्रबंधक कैलाश चंद्र ने बताया कि फ़िलहाल कोरोना संक्रमण को देखते हुए 30 जून के बाद मंदिर खोलने पर विचार होगा। इस मामले भदोही जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद को अवगत कराया गया है, उन्होंने भी अपनी सहमति दिया है। क्योंकि सीतामढ़ी एक भव्य पर्यटन स्थल के रूप में देश और दुनिया में विख्यात है। यहां महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली समेत विदेश से भी काफी संख्या में यात्री आते हैं। मां सीता के दर्शन के लिए गर्भगृह और हनुमानजी के दर्शन के लिए गुफा में जाना होगा। जिसकी वजह से सामाजिक दूरी का अनुपालन नहीं हो पाएगा। भक्तों को प्रसाद भी नहीं बटेंगा। सेनेटाइजेशन की व्यवस्था सम्भव नहीं होगी। क्योंकि एक पर्यटन स्थल है। यहाँ लोग पिकनिक के लिहाज से अधिक आते हैं। बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए फ़िलहाल मंदिर प्रशासन ने 30 जून तक मंदिर बंद रखने कान फैसला किया है।

भदोही जिले प्रमुख धार्मिक स्थलों में ज्ञानपुर स्थित बाबा हरिहरनाथ का मंदिर सोमवार को खुल गया। इस दौरान भक्त सामाजिक दूरी का ख़याल रखते हुए दर्शन किया। इस दौरान कोई प्रसाद, फूल और दूसरी वस्तुएं नहीं समर्पित होंगी। घंटा बजाने पर भी रोक होंगी। इसके अलवा कबूतरनाथ, दूधनाथ और तिलेश्वरनाथ मंदिर भी खुल गए हैं। लेकिन भक्तों को निर्देशों का अनुपालन ज़रूरी होगा।

Next Story
Share it