Top
Action India

Bihar Congress Protest : बिहार में भड़की कांग्रेस, केंद्र सरकार के खिलाफ किया देशव्यापी आन्दोलन; जाने पूरा विवाद

Bihar Congress Protest : बिहार में भड़की कांग्रेस, केंद्र सरकार के खिलाफ किया देशव्यापी आन्दोलन; जाने पूरा विवाद
X

पटना। एएनएन (Action News Network)

कांग्रेस पार्टी के केंद्र सरकार के खिलाफ देशव्यापी आन्दोलन को लेकर पटना के हर्ताली मोर पर प्रदर्सन कर रहे नेता और कार्यकर्ताओ पर पुलिस ने लाठी चार्ज और आसू गैस छोरे |

पटना - कांग्रेस पार्टी के केंद्र सरकार के खिलाफ देशव्यापी आन्दोलन को लेकर पटना के हर्ताली मोर पर प्रदर्सन कर रहे नेता और कार्यकर्ताओ पर पुलिस ने लाठी चार्ज और आसू गैस छोरे |

बिहार की राजधानी पटना की सड़कों पर कांग्रेस के जनवेदना मार्च के बाद अब जाप सुप्रीमो पप्‍पू यादव की रैली पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। वाटर कैनन छोड़े गए हैं। इसमें एक दर्जन से अधिक कार्यकर्ताओं को चोट लगी है। लाठी चार्ज और पानी के बाछौर को देख गिरते-पड़ते जाप कार्यकर्ता भागे। रैली का नेतृत्‍व पप्‍पू यादव खुद कर रहे हैं।

बताया जाता है कि जाप कार्यकर्ता प्रतिबंधित क्षेत्र की ओर जाने की कोशिश कर रहे थे। पुलिस और सैप के जवान उन्‍हें रोक रहे थे। लेकिन जाप कार्यकर्ता लगातार आगे बढ़ रहे थे। कार्यकर्ताओं के आक्रोश को देखते हुए पुलिस ने पहले पानी का बाछौर किया, उसके बाद आंसू गैस छोड़े।कार्यकर्ताओं के नहीं मानने पर जवानों ने लाठीचार्ज किया।

मौके पर मौजूद जाप सुप्रीमो पप्‍पू यादव ने कहा कि सुविधा नहीं तो टैक्‍स नहीं। रोजगार नहीं तो सरकार नहीं। उन्‍हाेंने कहा कि पटना में जलजमाव के नाम पर सरकार ने करोड़ों का घोटाला कर दिया है। 23 हजार करोड़ रुपये का बंदरबांट हो गया है।

जलजमाव से हुई हानि की क्षतिपूर्ति के लिए 23 हजार करोड़ रुपये आवंटित किये गये थे, वे रुपये कहां गए। उन्‍होंने कहा कि 10 हजार करोड़ का नुकसान हुआ है। एक-एक परिवार की क्षति लाखों में हुई है, लेकिन उनहें मुआवजा के नाम पर महज छह हजार रुपये दिये जा रहे हैं।

बिहार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा (Madan Modjn Jha) ने बताया कि देश में बेरोजगारी, आर्थिक मंदी और कृषि संकट चरम पर हैं। हालात को केंद्र की नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार संभाल नहीं पा रही।

इसके खिलाफ कांग्रेस ने पांच से 15 नवंबर तक धरना-प्रदर्शन की घोषणा की थी। लेकिन इसी बीच राम मंदिर विवाद (Ram Mandir Issue) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का फैसला आने के कारण आंदोलन को रेाक दिया गया।

मदन मोहन ने बताया कि इसके बाद कांग्रेस ने 18 से 22 नवंबर तक जिलों में धरना-प्रदर्शन किया, जिसमें पार्टी के सांसद-विधायक सहित पार्टी के वर्तमान व पूर्व जनप्रतिनिधियों तथा पार्टी नेताओं-कार्यकर्ताओं ने शिरकत की।

इसके बाद रविवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्‍यालय सदाकत आश्रम (Sadaquat Ashram) से शहीद स्‍मारक (Shaheed Smarak) तक राज्य स्तरीय रैली का आयोजन किया गया। रैली में कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, पर्यवेक्षक राजेश मिश्रा तथा कांग्रेस के सचिव वीरेंद्र सिंह राठौर के साथ पार्टी के नेता व जनप्रतिनिधि शामिल रहे।

कांग्रेस नेताओं ने रैली को हड़ताली मोड़ पर रोके जाने को ले विरोध प्रकट किया। विदित हो कि पुलिस ने वहां प्रदर्शनकारियों पर वाटर कैनन का इस्‍तेमाल किया तथा आंसू गैस के गोले छोड़े। पुलिस के बल प्रयोग में दर्जनों कांग्रेसी कार्यकर्ता घायल हो गए। कांग्रेस प्रवक्ता एसके वर्मा ने कहा कि यह शांतिपूर्ण आंदोलन को कुचलने की कोशिश थी। लेकिन जन असंतोष को दबाया नहीं जा सकता।

Next Story
Share it