Top
Action India

बिहार क्रिकेट ने बीसीसीआई से अपने खिलाड़ियों के बकाया राशि का भुगतान करने का किया आग्रह

बिहार क्रिकेट ने बीसीसीआई से अपने खिलाड़ियों के बकाया राशि का भुगतान करने का किया आग्रह
X

नई दिल्ली । Action India News

बिहार क्रिकेट एसोसिएशन (बीसीए) के सचिव आदित्य वर्मा ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) से अपने खिलाड़ियों के बकाए राशि की व्यवस्था करने का आग्रह किया है, जो देश के क्रिकेट गवर्निंग बॉडी द्वारा आयोजित विभिन्न टूर्नामेंटों में खेलते हैं।

बीसीसीआई के सचिव जय शाह को लिखे अपने पत्र में बीसीए सचिव आदित्य वर्मा ने लिखा, "कोरोना के कारण पूरी दुनिया को मुख्य रूप से वित्तीय संकट का सामना करना पड़ रहा है। अब, मैं मुख्य बिंदु पर आ रहा हूं, बीसीए बीसीसीआई की एक संबद्ध इकाई है। बिहार के बहुत सारे जूनियर और सीनियर पुरुष और महिला क्रिकेटरों ने पिछले साल बीसीसीआई द्वारा आयोजित रणजी ट्रॉफी सहित जूनियर और सीनियर क्रिकेट टूर्नामेंट खेले, लेकिन खेद के साथ कहना पड़ रहा है कि , बीसीए के वर्तमान पदाधिकारियों ने बिहार के क्रिकेट खिलाड़ियों को एक पैसा नहीं दिया और न ही टीए, डीए, या उनकी मैच फीस का भुगतान किया।”

वर्मा ने खिलाड़ियों की मैच फीस और अन्य भत्तों के निपटान के लिए बीसीसीआई द्वारा आवंटित फंड के कुप्रबंधन के लिए बीसीए पदाधिकारियों को दोषी ठहराया।

उन्होंने पत्र में कहा,"इसके पीछे क्या कारण है, बीसीसीआई यह अच्छी तरह से जानता है। वर्तमान निकाय को कई समूहों में विभाजित किया गया है। पिछले सितंबर के महीने में बीसीसीआई ने सीओए के कार्यकाल में बीसीए, पटना को 11 करोड़ रुपये का अनुदान दिया। बीसीए ने आज तक 9 करोड़ से अधिक खर्च किए, लेकिन बिहार के एकल खिलाड़ियों को टीए, डीए का भुगतान नहीं किया, यह घृणित है।"

उन्होंने आगे कहा, "विभिन्न पारिवारिक पृष्ठभूमि से आने वाले बिहार के क्रिकेटरों को अपने वेतन के बिना संकट के समय में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। कई क्रिकेटर्स एक औसत मध्यम वर्गीय परिवार के हैं। कोरोना के कारण परिवारों को भी वित्तीय संकट का सामना करना पड़ रहा है। विनम्र निवेदन है कि बीसीसीआई टूर्नामेंट में राज्य का प्रतिनिधित्व करने वाले खिलाड़ियों की वास्तविक मांग को पूरा करने की व्यवस्था करें।"

इस बीच, बीसीसीआई ने एक समिति का गठन किया और उन्हें प्रतिभागी खिलाड़ियों की सूची को शॉर्टलिस्ट करने और जल्द से जल्द उनका बकाया चुकाने का निर्देश दिया है।

Next Story
Share it