Top
Action India

भाजपा ने बनाई सरकार को घेरने की रणनीति, कहा-जनहित के लिए सड़क से सदन तक करेंगे संघर्ष

भाजपा ने बनाई सरकार को घेरने की रणनीति, कहा-जनहित के लिए सड़क से सदन तक करेंगे संघर्ष
X

भोपाल। एएनएन (Action News Network)

मध्यप्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र मंगलवार से शुरू होने जा रहा है। इससे पहले सोमवार की रात पार्टी कार्यालय में भाजपा विधायक दल की बैठक हुई, जिसमें कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को घेरने की रणनीति बनाई गई।

इस दौरान पार्टी नेताओं ने कहा कि जनहित के लिए हम सड़क से सदन तक संघर्ष करेंगे। बैठक में केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, पूर्व मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, दल के मुख्य सचेतक डॉ. नरोत्तम मिश्रा सहित सभी भाजपा विधायक मौजूद थे।

प्रदेश सरकार की नाकामी के कारण प्रधानमंत्री फसल बीमा से वंचित हुए किसान: तोमर
बैठक में केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि लोकतंत्र में सरकार को विधि सम्मत कार्य करना चाहिए लेकिन दुर्भाग्य से कमलनाथ सरकार के एजेंडे से जनकल्याण गायब है। विकास के नाम पर सरकार ने एक साल में कुछ नहीं किया। प्रदेश सरकार खजाना खाली का बोलकर अपनी जिम्मदारियों से इतिश्री कर रही है। केंद्र सरकार पर राज्य सरकार पर असहयोग का जो आरोप लगाती है वह पूरी तरह झूठा है। प्रदेश सरकार की नाकामी के कारण प्रधानमंत्री फसल योजना का 6 हजार करोड़ नहीं मिल रहा है।

प्रदेश में त्राहि त्राहि, एक वर्ष में भ्रष्टाचार का लोकव्यापीकरण हुआ: शिवराज
शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश सरकार को विकास के काम से कोई लेना देना नहीं है। एक साल में भ्रष्टाचार का लोकव्यापीकरण हुआ है। हर जगह दलाल और माफिया घूम रहे हैं। जनता परेशान है। हर मुद्दे पर सरकार विफल साबित हुई है। सिर्फ मुद्दों से भटकाने के लिए प्रदेश सरकार माफिया के नाम पर भेदभावपूर्ण कार्यवाही कर रही है। मुख्यमंत्री कमलनाथ को प्रदेश की जनता से कोई लेना देना नहीं है।

जनता की आवाज उठाना हमारी जिम्मेदारी: राकेश सिंह
राकेश सिंह ने कहा कि धारा 370, राम मंदिर और नागरिकता संशोधन कानून जैसे तीन ऐतिहासिक निर्णय हमारे पुरखों के संघर्ष के कारण संभव हुए है। इन तीनों निर्णय से राष्ट्रवाद मजबूत होगा। प्रदेश की जनता न्याय की आस लगाकर हमारी तरफ देख रही है। जनता की आवाज उठाने की जिम्मेदारी हमारी है। बीते एक वर्ष में सरकार पूरी तरह विफल हुई है। भाजपा ने इस एक वर्ष में सरकार के खिलाफ 14 प्रदेशस्तरीय आंदोलन किए है। आंदोलन की यह श्रृंखला लगातार जारी रहेगी। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर कांग्रेस तुष्टीकरण की राजनीति कर रही है। जनता में भ्रम का वातावरण पैदा किया जा रहा है। मोदी सरकार ने लोकसभा और राज्यसभा में इस ऐतिहासिक बिल को कानून का रूप दिया। लेकिन प्रदेश सरकार राजनैतिक विद्वेष के चलते मध्यप्रदेश में इस कानून को लागू नहीं कर रही है।

सदन में पुरजोर तरीके से उठाए जनता की आवाज: गोपाल भार्गव
गोपाल भार्गव ने कहा कि सरकार को एक वर्ष पूरा हुआ है, लेकिन इस एक वर्ष मे कमलनाथ सरकार ने 10 साल के बंटाढार युग का रिकार्ड तोड़ दिया है। सरकार के हर काम में कमियां और दोष है। रेत माफिया, खनन माफिया और परिवहन माफिया हावी है। अकेले परिवहन क्षेत्र में 1200 करोड रुपये की वसूली हो रही है। हमें जनता की आवाज को सड़क और सदन में प्रभावी तरीके से मुखरता के साथ उठाना है। सरकार को कठघरे में खड़ा करने का काम हमारा है। भ्रष्टाचार में डूबी यह सरकार विपक्ष का दमन करने की कोशिश कर रही है। हमारे विधायकों को निशाना बनाया जा रहा है, लेकिन हम झुकने वाले नहीं है। पूरे विधानसभा सत्र के हर रोज सदन के बाहर प्रदर्शन और सदन के अंदर मुखर होकर लड़ाई लड़ें।

Next Story
Share it