Top
Action India

विदेश में फसे राजस्थानी छात्रों की स्वदेश वापसी के लिए विदेश मंत्री से मिले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष

विदेश में फसे राजस्थानी छात्रों की स्वदेश वापसी के लिए विदेश मंत्री से मिले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष
X

जयपुर। एएनएन (Action News Network)

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां, सीकर सांसद सुमेधानंद और विधानसभा में उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने गुरूवार को विदेश मंत्री एस. जयशंकर प्रसाद से मुलाकात की। इस दौरान विदेश मंत्री से विदेश में पढ़ाई कर रहे छात्रों की सुरक्षित घरवापसी करवाने का आग्रह किया गया।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने गुरुवार को नई दिल्ली में विदेश मंत्री एस. जयशंकर से मुलाकात की और कोरोना वायरस से प्रभावित देशों में अध्ययनरत राजस्थान के छात्रों के सम्बंध में विस्तृत चर्चा की। इस दौरान उनके साथ उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ और सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती भी थे।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पूनियां ने मुलाकात के बाद बताया कि विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने आश्वस्त किया है कि सरकार स्थिति पर नजर बनाए हुए है। इस संबंध में भारतीय दूतावासों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए हुए हैं। इसके अतिरिक्त कंट्रोल रूम्स में उनकी सुविधाओं और स्वास्थ्य का ध्यान रखा जाएगा और उन्हें किसी प्रकार की समस्या ना हो, इस बारे में दिन-प्रतिदिन जानकारी ली जाएगी।

विदेश मंत्री ने यह भी कहा है कि जहां से संभव हो सकेगा वहां से छात्रों को देश में लाने की पूरी कोशिश की जाएगी और जहां संभव नहीं होगा, वहीं पर उनका पूरा ध्यान रखा जाएगा। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. पूनियां ने प्रदेश के उन अभिभावकों को, जिनके बच्चे कोरोना से प्रभावित देशों में अध्ययनरत हैं, आश्वासन दिया है कि घबराने की जरूरत नहीं है। मोदी सरकार छात्रों की सुख-सुविधा और स्वास्थ्य को लेकर अच्छा प्रबंधन करेगी।

गौरतलब है कि कोरोना के चलते किर्गिस्तान में फसे भारतीय छात्रों को सरकारी हॉस्टल से निकालकर अन्य हॉस्टलों में शिफ्ट किया जा रहा है। ये हॉस्टल पहले से ही खचाखच भरे हुए हैं। किर्गिस्तान में 150 से अधिक भारतीय विद्यार्थी फंसे हुए हैं। इनमें जालोर जिले के सांचौर के 50 विद्यार्थी भी शामिल हैं, जो एमबीबीएस पढ़ाई कर रहे हैं। रालोपा के सांसद हनुमान बेनीवाल ने भी एक दिन पहले विदेश मंत्री से मुलाकात कर भारतीय विद्यार्थियों की सुरक्षित घरवापसी करवाने का आग्रह किया था।

Next Story
Share it