Top
Action India

पेशा एक्ट-कर्जा एक्ट लागू फिर भी अवैध ब्याज का काला कारोबार जारी : मोर्चा

पेशा एक्ट-कर्जा एक्ट लागू फिर भी अवैध ब्याज का काला कारोबार जारी : मोर्चा
X

जगदलपुर । Action India News

बस्तर जिले के लोगों की मजबूरियों व जरूरतों का फायदा उठाते हुए 07 प्रतिशत से 40 प्रतिशत तक अवैध रूप से ब्याज वसूली का गोरखधंधा शहर से लेकर ग्रामों तक बेधड़क जारी है। इस अवैध काले कारोबार को बस्तर के कुछ काले करोबारियों ने इसे बकायदा फाईनेंस कंपनी बनाकर खुले आम धंधा करने में लगे हुए हैं। मजबूरी में फंसे लोगों का पता लगाकर उनको मदद के नाम पर जरूरत की रकम देने के बाद मूल से कई गुना अधिक ब्याज वसूला जा रहा है।

बस्तर अधिकार सयुक्त मुक्ति मोर्चा के संयोजक नवनीत चांद ने शन‍िवार को बयान जारी कर कहा क‍ि शहर व गांव इस अवैध ब्याज के काले कारोबार ने अपनी जड़ें इस कदर जमा ली है कि हर वार्ड या गांव में इस व्यापार के शिकार अपने शोषण की कहानी बता रहे हैं।

ब्याज के इस अवैध काला कारोबार वर्ष 2008 से बस्तर में फैला है। एक अनुमान के अनुसार इस काले कारोबार में बस्तर जिले में लगभग 100 करोड़ से अधिक की राशि ब्याज में चलाई जा रही है, जिसका करोड़ों रुपये का हर महीने ब्याज इन अवैध ब्याज के काले कारोबारियों से जुड़े दबंगों के द्वारा वसूला जा रहा है। ब्याज के चक्कर में फंसकर खुद को नुकसान पहुंचाने अर्थात आत्महत्या से लेकर शहर छोड़ कर भागने तक की बात सामने आ रही है।

बस्तर अधिकार सयुक्त मुक्ति मोर्चा के संयोजक नवनीत चांद ने ब्याज के अवैध काले कारोबार पर बस्तर प्रशासन व सरकार का ध्यान आकर्षित कर कहा है कि बस्तर में पांचवी अनुसूची एवं 1996 में पेशाएक्ट लागू होने से कर्जा एक्ट भी प्रभावी है।

जिसके कारण ब्याज के कारोबार के लिए लाईसेंस भी नहीं लिया जा सकता है। अर्थात ब्याज के कारोबार पर पूर्णत: पाबंदी है। बावजूद इसके नियम-कायदे को ताक में रखकर बिना अनुमति के करोड़ों के ब्याज के काले कारोबार के गोरखधंधा चलाकर लोगों को कर्ज के जाल में फंसाकर उनका शोषण किया जा रहा है।

शिकायत के अभाव में प्रशासन व सरकार की उदासीनता ने इस व्यापार को बस्तर में फलने वह फूलने का सुअवसर प्रदान कर दिया है। नवनीत चांद ने कहा कि मोर्चा इसके शिकार लोगों को मुक्ति दिलाने के लिए जिला व पुलिस प्रशासन को शिकायत पत्र सौंपकर कार्रवाई की मांग करेगा।

Next Story
Share it