Top
Action India

ग्यारह महीने पहले हुए ब्लाइंड मर्डर का खुलासा:मास्टरमाइंड सहित दो हत्यारे चढे पुलिस के हत्थे

ग्यारह महीने पहले हुए ब्लाइंड मर्डर का खुलासा:मास्टरमाइंड सहित दो हत्यारे चढे पुलिस के हत्थे
X

जयपुर । Action India News

जयपुर ग्रामीण जिले के जमवारामगढ़ थाना पुलिस ने 11 महीने पहले हुई ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए मंगलवार को हत्या की वारदात में शामिल मास्टरमाइंड और उसके एक साथी को गिरफ्तार किया गया है। फिलहाल आरोपितों से पूछताछ की जा रही है।

पुलिस महानिरीक्षक जयपुर रेंज एस.सेंगाथिर ने बताया कि 11 महीने पहले हुई मृतक देवीलाल का आरोपितों से गांव में रास्ते को लेकर विवाद चल रहा था। आपसी झगड़े के चलते 73 वर्षीय देवीलाल मीणा उर्फ मांगू मीणा ने हत्या के मास्टरमाइंड महेंद्र उर्फ महफू मीणा को उसकी शादी में आने वाले रिश्तेदारों के लिए घर पहुंचने तक का रास्ता नहीं दिया। ऐसे में रिश्तेदारों को आसपास के खेतों से होकर शादी समारोह में शामिल होना पड़ा था।

इसी से गुस्साए महेंद्र ने अपने साथी प्रहलाद उर्फ नारू मीणा के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची। उन्होंने 4 मई 2019 की रात को दुकान के बाहर सो रहे देवीलाल की डंडों से पीट पीटकर हत्या कर दी थी।

जिस पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए प्रहलाद मीणा उर्फ नारू (19) निवासी कांकरिया की ढाणी जमवारामगढ जिला जयपुर और महेन्द्र मीणा उर्फ महफू (19) निवासी गुआमाला ढाणी जिला जमवारामगढ जिला जयपुर को गिरफ्तार किया गया है।

जयपुर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक शंकर दत्त शर्मा ने बताया कि 4 मई को टोडामीणा निवासी देवीलाल मीणा अपनी आटा चक्की की दुकान के बाहर सो रहा था। तब प्रहलाद और महेंद्र मीणा ने उस पर जानलेवा हमला कर दिया था।

गंभीर चोट आने से देवीलाल मीणा हमलावरों के नाम नहीं बता सका था। ऐसे में गंभीर घायल देवीलाल की एक माह तक बाद उपचार के दौरान 5 जून को मौत हो गई थी। इस पर जमवारामगढ़ पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर लिया।

जमवारामगढ़ पुलिस उप अधीक्षक लाखनसिंह मीणा व थानाप्रभारी नरेंद्र सिंह के नेतृत्व में हत्या की पड़ताल शुरु हुई। इस बीच देवीलाल की हत्या के विरोध में जमकर धरना प्रदर्शन भी हुए थे। पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठाए गए थे। जिस पर चंदवाजी थाने में पदस्थापित कांस्टेबल पृथ्वीराज ने अहम भूमिका निभाई।

उन्होंने सायबर सेल की मदद से हत्या की वारदात का खुलासा करते हुए दोनों आरोपियों को हिरासत लेकर पूछताछ की तो उन्होने हत्या की वारदात को अंजाम देना कबूला। इस मामले में कांस्टेबल पृथ्वीराज की विशेष पदोन्नति के लिए पुलिस मुख्यालय को प्रस्ताव भेजा जाएगा। वहीं, खुलासे में शामिल अन्य पुलिस टीम को भी पुरस्कृत किया जाएगा।

Next Story
Share it