Action India
अन्य राज्य

कुशीनगर : अनलॉक में शहरों को लौटने लगे कामगार, फोरलेन से रोज गुजर रही बसें

कुशीनगर : अनलॉक में शहरों को लौटने लगे कामगार, फोरलेन से रोज गुजर रही बसें
X

कुशीनगर । एएनएन (Action News Network)

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते देश के विभिन्न हिस्सों से घरों को लौटे कामगार अब पुनः वापस काम पर लौटने लगे हैं। राजस्थान, महाराष्ट्र, पंजाब, मध्यप्रदेश के नम्बर वाली बसों से बिहार व झारखंड के कामगार बड़े शहरों की ओर जाते रोज दिख रहे हैं।

कामगारों से सुरक्षा व संरक्षण का वादा कर उद्यमी खुद के खर्चे पर बसें भेज कामगारों को बुला रहे हैं। यूं कह लीजिए भूख और परिवार की चिंता कामगारों पर कोरोना के भय पर भारी पड़ गई है। बड़े उद्योगों कल कारखानों सहित लघु व मध्यम श्रेणी के उद्यमी भी बसों के अलावा छोटे वाहन भी कामगारों को लाने के लिए भेज रहे हैं।

उद्यमियों ने कामगारों को बुलाने से पहले इनके सुरक्षा, सुविधा व आवास, भोजन, चिकित्सा आदि का इंतजाम करने का वादा भी किया है। गुरुवार की रात बिहार के सीतामढ़ी के गांव धमौली के कामगार पंजाब के लुधियाना के लिए गए।

फोरलेन स्थित एक ढाबा पर भोजन करने को रुके इन कामगारों से बातचीत की गई। मिल मालिक ने इन्हें ले जाने के लिए मिनी बस गांव भेजा था। कामगार भुवाल ने कहा कि घर बैठेंगे तो परिवार कैसे चलेगा। कोरोना के भय से भूख की चिंता कहीं अधिक है।

अमित ने कहा कि परिवार चलाने के लिए हमें पैसों की जरूरत है तो देश को आगे बढ़ने के लिए फैक्टरियों का भी चलाना जरूरी है। लालबाबू ने कहा कि देश मे कोरोना बढ़ रहा है। डर तो है पर मिल मालिक ने सुरक्षा, स्वास्थ्य, भोजन व आवास का वादा किया है।

ऋषिकेश ने कहा कि हम लोग मिल बंद होने पर घर लौटे थे।अगर काम मिल होता तो घर नही लौटे होते। अब मन से डर निकल चुका है। घर चलाना है तो काम पर तो शहरों में जाना ही होगा। झारखंड के श्रमिक भी यही बात कह रहे।

Next Story
Share it