Top
Action India

हिमाचल सरकार के तीन नवनियुक्त मंत्रियों को विभागों का आवंटन, सुखराम बने ऊर्जा मंत्री

हिमाचल सरकार के तीन नवनियुक्त मंत्रियों को विभागों का आवंटन, सुखराम बने ऊर्जा मंत्री
X

  • आठ मंत्रियों के विभागों में फेरबदल, राजीव सहजल को स्वास्थ्य विभाग का जिम्मा
  • उज्जवल शर्मा

शिमला । Action India News

मंत्रिमंडल विस्तार के एक दिन बाद शुक्रवार देर रात मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने तीन नवनियुक्त मंत्रियों को विभागों का आवंटन कर दिया है। सुखराम चोैधरी प्रदेश के नए ऊर्जा मंत्री होंगे। वह बहुउद्देशीय परियोजना व नवीकरण ऊर्जा विभाग भी संभालेंगे।

राकेश पठानिया को वन एवं युवा सेवाएं और खेल विभाग की जिम्मेदारी दी गई है। पहली बार विधायक बनने के साथ-साथ मंत्री बनने वाले राजेंद्र गर्ग को खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति के साथ-साथ प्रिंटिंग व स्टेशनरी विभाग दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने आठ मंत्रियों के विभागों में फरेबदल भी किया है। उम्मीद के मुताबिक परिणाम न देने वाले मंत्रियों से महत्वपूर्ण विभाग छीन लिए गए हैं। वहीं बेहतर काम करने वाले मंत्रियों को मजबूत बनाया गया है। डॉ राजीव सहजल को प्रदेश का महत्त्वपूर्ण विभाग स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण व आयुर्वेद का जिम्मा दिया गया है। इससे पहले वह सामाजिक न्याय व आधिकारिता मंत्री थे।

महेंद्र सिंह ठाकुर को जलशक्ति, बागबानी व सैनिक कल्याण के साथ राजस्व का महत्त्वपूर्ण विभाग दिया गया है। सुरेश भारद्वाज को शहरी विकास, टीसीपी, हाउसिंग, कानून, सहकारिता व संसदीय कार्य विभाग दिया गया है। सरवीण चैधरी को शहरी विकास से हटाकर सामाजिक न्याय व आधिकारिता विभाग सौंपा गया है।

रामलाल मार्कंडेय को कृषि से हटाकर तकनीकी शिक्षा, जनजातीय मामले व आईटी विभाग सौंपा गया है। सुरेश भारद्वाज को शिक्षा विभाग से हटाकर शहरी विकास, टीसीपी, हाउसिंग, कानून, सहकारिता व संसदीय कार्य विभाग दिया गया है। परिवहन, वन व खेल जैसे तीन बड़े विभागों के साथ महत्त्वपूर्ण भूमिका में डटे रहे गोबिंद सिंह ठाकुर को मात्र शिक्षा एवं भाषा एवं संस्कृति विभाग सौंपा गया है।

वीरेंद्र कंवर को पहले की अपेक्षा और सशक्त किया गया है और उन्हें ग्रामीण विकास, पंचायती रात, पशुपालन, मत्स्य पालन के साथ कृषि विभाग की महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के पास गृह, वित्त, सामान्य प्रशासन, योजना, कार्मिक के साथ वे सभी विभाग रहेंगे, जिन्हें किसी को नहीं दिया गया है।

Next Story
Share it