Top
Action India

छत्तीसगढ़ में कोरोना एक्टिव मरीजों की संख्या हुई 383, एक की मौत

छत्तीसगढ़ में कोरोना एक्टिव मरीजों की संख्या हुई 383, एक की मौत
X

रायपुर । एएनएन (Action News Network)

राज्य में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। रविवार देर रात तक जारी रिपोर्ट में 51 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। प्रदेश में अब कोरोना एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 383 हो गई है। रविवार को राजधानी रायपुर में तीन महिला और एक पुरुष कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग के उपसंचालक एवं प्रवक्ता डॉक्टर अखिलेश त्रिपाठी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार रविवार को मिले सभी मरीजों को अस्पताल में दाखिल करवा दिया गया है। उन्होंने बताया कि इन मरीजों में से अधिकांश मजदूर हैं और एक सरकारी कर्मचारी शामिल है। प्रदेश में अब तक कुल 498 संक्रमित मरीज मिले हैं, जिनमें से 114 लोगों को इलाज के बाद डिस्चार्ज कर दिया जा चुका है।

अभी तक कोरोना पॉजिटिव से एक की मौत हो चुकी है।जानकारी के अनुसार जशपुर के छात्रावास में बनाए गए एकांतवास केंद्र का अधीक्षक कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। प्रवासी श्रमिकों के प्रदेश में पहुंचने के बाद कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। श्रमिकों के बाद अब शहरी क्षेत्र के लोग भी तेजी से संक्रमित हो रहे हैं। राजधानी रायपुर में ही पिछले तीन दिन में सात कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। वीर गांव में मिले कोरोना पॉजिटिव मजदूर का बर्निंग चेंबर में अंत्येष्टि की गई। यह मजदूर कैसे संक्रमित हुआ है अभी तक पता नहीं चल पाया।प्रदेश में पिछले 17 दिन में कुल 420 मरीज मिले हैं।

14 मई के बाद राज्य की स्थिति कोरोना को लेकर बिगड़नी शुरू हुई है। रविवार देर रात तक रायपुर में मिले चार मरीजों में से तीन महिलाएं और एक युवक शामिल है।प्रदेश में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 498 पहुंच चुकी है, जिसमें से 383 एक्टिव है। एक की मौत हो चुकी है और 114 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब तक बस्तर संभाग में 21, दुर्ग संभाग में 104, रायपुर संभाग में 56, सरगुजा संभाग में 92 एवं बिलासपुर संभाग में सर्वाधिक 206 कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके हैं।

रायपुर की सीएमएचओ डॉक्टर मीरा बघेल का कहना है कि स्वास्थ विभाग सभी मरीजों के निजी संपर्कों का पता लगा रही है। जोखिम क्षेत्रों के सर्दी, खांसी, बुखार और सांस में तकलीफ वाले मरीजों की जांच की जाएगी। अभी तक राजधानी रायपुर के फाफाडीह, रावा भांठा, देवेंद्र नगर सेक्टर 5, चांगोरा भाटा और दोंदें खुर्द क्षेत्र को जोखिम क्षेत्र घोषित किया जा चुका है। राज्य सरकार ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए राज्य की सारी सीमाएं सील कर दी हैं और एक जिले से दूसरे जिले में जाने के लिए ई पास जरूरी कर दिया है।

Next Story
Share it