Action India
अन्य राज्य

चित्रकूट के सीएमओ कार्यालय के तैनात संविदा कर्मी समेत सात नये कोरोना संक्रमित मिलने से मचा हडकंप

चित्रकूट के सीएमओ कार्यालय के तैनात संविदा कर्मी समेत सात नये कोरोना संक्रमित मिलने से मचा हडकंप
X

  • जिले में सक्रिय कोरोना पीडितों की संख्या बढकर हुई 14

चित्रकूट । एएनएन (Action News Network)

बुंदेलखंड के चित्रकूट जनपद में कोरोना महामारी का प्रकोप दिनों-दिन बढता जा रहा है। सोमवार को जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय मेें तैनात संविदा कर्मी समेत सात नये कोरोना संक्रमितों के मिलने से धर्म नगरी में हडकंप मचा हुआ है। इससे पहले भी जिले में दो स्वास्थ्य कर्मियों समेत मुम्बई,सूरत और इंदौर से आये आठ प्रवासी मजदूरों को कोरोना संक्रमित पाया गया था। जिन्हे इलाज के लिए बांदा मेडिकल कालेज में भर्ती काराया गया था। जिसमें से इलाज के बाद इंदौर से आये चित्रकूट जिले के भरतकूप थाना क्षेत्र के लूक धौरही गांव निवासी एक कोरोना संक्रमित को ठीक किया गया है। सोमवार को आये सात नये मामलों के बाद जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढकर 14 हो गई है।

वैश्विक महामारी कोरोेना वायरस के बढते प्रकोप को दृष्टिगत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में किये गये लाक डाउन की घोषणा के बाद से दो चरणों तक ग्रीन जोन में शामिल रहे बुंदेलखंड के चित्रकूट जनपद में बीती 5 मई को कोरोना की इंट्री हुई। मध्य प्रदेश के इंदौर से झाँसी आने के बाद रेलवे ट्रैक पर पैदल चलकर चित्रकूट आते समय बाँदा रेलवे स्टेशन के पास से गुजरते समय पकडे गये जिले के भरतकूप थाना क्षेत्र के लूक धौरही गांव के तीन मजदूरों को एकांतवास भेजा गया था। इसके बाद कोरोना संक्रमित होने की रिपोर्ट आने के बाद चित्रकूट के तीनो मजदूरों को बाँदा के मेडिकल कालेज में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था।

इसके बाद बीती 10 मई को मुंबई और सूरत से आये भरतकूप थाना क्षेत्र के पतौड़ा गांव के एक और राजापुर थाना क्षेत्र के बरद्वारा गांव के दो मजदूरों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर जिले के पतौड़ा और बरद्वारा गांव को हॉटस्पॉट घोषित कर जिला प्रशासन द्वारा दोनों संक्रमित गाँवो में लोगो के अंदर -बाहर आने जाने पर प्रतिबन्ध लगा दिया था। वही 11 मई को आई जांच रिपोर्ट में जिला अस्पताल में तैनात दो स्वास्थ्य कर्मियों के कोरोना संक्रमित निकलने से पूरे जिले में हड़कंप मच गया।मुख्यालय के अंदर कोरोना महामारी के दाखिल होने की खबर से शहर वासियो के साथ -साथ स्वास्थ्य कर्मियों में भी दहशत फैली गई थी।

जिले के आठ कोरोना संक्रमितों में से इलाज के दौरान मध्य प्रदेश के इंदौर से आये भरतकूप क्षेत्र के लूक धौरही के एक प्रवासी मजदूर को ठीक किया गया।जिससे कोरोना संक्रमितों की संख्या घटकर सात होने से प्रशासन और स्वास्थ्य महकमें ने राहत की सांस ली थी। वहीं सोमवार को प्रयागराज मेडिकल कालेज से आयी कोरोना जांच रिपोर्ट में जिले में सात और नये कोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि होने से हडकंप मच गया। सात नये कोरोना संक्रमितों में मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय चित्रकूट में तैनात संविदा कर्मी निवासी भरतपुरी कर्वी,जिला अस्पताल मे अस्थि रोग विभाग तैनात संविदा कर्मी निवासी प्यारेलाल कालोनी कर्वी के अलावा मुम्बई से आये पहाडी ब्लाक के बरद्वारा व शिवरामपुर क्षेत्र के गढीघाट एवं बैहार गांव के पांच प्रवासी मजदूर शामिल है।

आपको बता दे कि आज आई रिपोर्ट में संक्रमित मिले सीएमओ कार्यालय के संविदा कर्मी के मुख्यालय के भरतपुरी मोहल्ला स्थित मकान में किराये से रहने वाला जिला चिकित्सालय का एक स्वास्थ्य कर्मी बीती 11 मई को संक्रमित मिला था। मुख्य चिकित्साधिकारी डा0विनोद कुमार यादव ने बताया कि कोविड-19 के अन्तर्गत आईटीआई कालेज भांगा शिवरामपुर में बनाये गये फैसिलिटी एकांतवास से 87 व्यक्तियों तथा जिला चिकित्सालय चित्रकूट से 76 कुल 163 संदिग्ध व्यक्तियों का सैम्पल बीती 12 मई को जांच के लिए प्रयागराज लैब भेजा गया था। सीएमओ ने बताया कि उक्त भेजे गये सैम्पल में से रविवार की रात कुल 147 की रिपोर्ट प्राप्त हुई है।जिसमें से सात व्यक्तियोें की संक्रमित होने की रिपोर्ट प्राप्त हुई है।

सीएमओ डा0यादव ने बताया कि सात संक्रमितों में से पांच मुम्बई से आये पहाडी व शिवरामपुर क्षेत्र के बरद्वारा,गढीघाट और बैहार गांव के पांच प्रवासी मजदूर एवं दो शहरी क्षेत्र के लोग शामिल है। उन्होने बताया कि सात नये कोरोना संक्रमितों के मिलने के बाद जिले में कुल कोरोना पीडितों की संख्या बढकर 14 हो गई है। बताया कि कोरोना के बढे मामलों की जानकारी जिलाधिकारी को उपलब्ध करा दी गई है। जल्द ही कोरोना संक्रमितों के वार्डो एवं गांवों को हाटस्पाट घोषित कर सेनेटाइज किया जायेगा। साथ ही पीडितों के सम्पर्क में आने वाले अन्य लोगों के सैम्पल लेकर जांच के लिए लैब भेजा जायेगा। उन्होनेे जनपद वासियों से कोरोना महामारी से घबराने की बजाय सर्तकता और सावधानी बरत कर उससे मुकाबला करने की अपील की है। उन्होने सभी लोगों से घरों में रहने एवं मास्क और सेनेटाइजर का प्रयोग करने की अपील की है। ताकि कोरोना महामारी की रोकथाम और बचाव हो सकें।

Next Story
Share it