Select Page

सीआईए-वन टीम ने सुलझाई ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी

सीआईए-वन टीम ने सुलझाई ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी

करनाल/टीम एक्शन इंडिया
सीआईए वन पुलिस ने ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी को सुलझाते हुए तीन आरोपियों को काबू किया है। आरोपियों पर एक व्यक्ति की टांगें व गर्दन काटकर शव को नहर में फेंकने का आरोप है। आरोपियों को आज अदालत में पेश किया गया, जहां से उनका सात दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार 24 फरवरी 2021 को पुलिस नियंत्रण कक्ष में सुचना प्राप्त हुई थी कि गांव चमार खेड़ा के पास नहर में एक शव दिखाई दे रहा है। सूचना पर पुलिस की टीमें मौके पर पहुंची और बिना गर्दन व बिना टांगों के शव को अपने कब्जे में लेकर थाना सदर में सुरेश कुमार पुत्र दूलीचंद वासी चमार खेड़ा की शिकायत पर अज्ञात आरोपियों के खिलाफ थाना सदर में भारतीय दंड संहिता की धारा-302 व 201 के तहत मामला दर्ज किया गया था।


मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक गंगाराम पूनिया ने मामले की जांच सीआइए वन को सौंपी। पुलिस टीम द्वारा की गई जांच के दौरान मृतक की पहचान महेन्द्र उर्फ मौगली पुत्र अर्जुन सिंह वासी खखराली थाना डेराबस्सी के रूप में हुई। इस मामले में पुलिस टीम द्वारा शक के आधार पर तीन व्यक्तियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई, जिसमें उन्होंने अपराध को कबूल किया। पुलिस टीम द्वारा आज तीनों आरोपियों गुरप्रीत सिंह पुत्र नारंग सिंह वासी गणेश विहार अंबाला हाल किरायेदार सोसायटी मौहाली, भारत भूषण पुत्र हरबंस वासी सोनिया कालोनी अंबाला और अभिषेक बाजवा पुत्र राजेन्द्र प्रसाद वासी हाउसिंग बोर्ड कालोनी थाना सदर अंबाला को अंबाला क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया। इस संबंध में उपपुलिस अधीक्षक गौरव फौगाट ने बताया कि सीआइए वन की टीम द्वारा बेहतरीन कार्य करते हुए एक ब्लांइड मर्डर की गुत्थी को सुलझा लिया गया है। पुलिस पूछताछ में सामने आया कि आरोपियों और मृतक का एक साथ उठना बैठना था। एक दिन उन्होंने इक्कठे बैठकर नशे का सेवन किया व उसके बाद उनका आपस में झगड़ा हो गया।

ह्यआरोपियों द्वारा महेन्द्र उर्फ मौगली की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इसके बाद शव को खुर्द-बुर्द करने व सभी प्रकार के सबूतों को मिटाने के लिए उनके द्वारा मृतक की गर्दन व टांगें काट दी गई। आरोपियों ने उसके धड़ व टांगों को अलग-अलग तरीके से पैक करके जंगसूई नहर अंबाला फेंक दिया और उसकी गर्दन को गणेश विहार, बलदेव नगर अंबाला में एक खाली पड़े प्लाट में जला दिया गया। उन्होंने बताया कि इस मामले में आरोपियों के साथ उनके तीन अन्य साथी भी शामिल थे, जिन्हें भी बहुत जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Advertisement

Advertisement