Top
Action India

रोहिग्याओं और बांग्लादेशियों बारे नीति स्पष्ट करे सरकार : डुग्गर प्रदेश पार्टी

विजयपुर। एएनएन (Action News Network)

केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा डोमिसाइल कानून में संशोधन किए जाने का स्वागत करते हुए डुग्गर प्रदेश पार्टी के अध्यक्ष मोहन सिंह स्लाथिया ने रविवार को कहा कि सरकार को चाहिए कि वो जम्मू में रह रहे रोहिग्याओं और बांग्लादेशियों के बारे में भी नीति स्पष्ट करे।पार्टी के अध्यक्ष और साहित्य अकादमी अवार्ड विजेता ने कहा कि सरकारी नौकरियां स्थानीय युवाओं के लिए आरक्षित करना एक सराहनी कदम है लेकिन इसके साथ ही नीजि सैक्टर में भी स्थानीय युवाओं को उचित स्थान दिया जाना चाहिए।

स्लाथिया ने कहा कि केन्द्र सरकार को चाहिए कि वो पिछले कई सालों से अवैध रूप से जम्मू में रह रहे रोहिग्याओं और बांग्लादेशियों को बाहर निकालने के बारे में भी सरकार कीे नीति स्पष्ट करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह लोग जम्मू में सुरक्षा के लिए लगातार खतरा बने हुए हैं क्योंकि इनकी अपराधिक प्रवृत्ति है। वहीं सिंह ने इस बात पर भी जोर दिया कि जम्मू के जनसांख्यिक स्वरूप को बदलने के लिए पिछले करीब तीन दशकों से जम्मू में आकर बसे हुए कश्मीर घाटी के लोगों के बारे में भी सरकार को विचार करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि इन लोगों को पूर्ववर्ती कश्मीर केंद्रित शासकों ने कई कालोनियां बनाकर एक साजिश के तहत यहां पर बसाया है ताकि जम्मू के जनसांख्यिक स्वरूप को बदला जा सके।डोमिसाइल कानून के बारे में पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि इससे पहले लागू किए गए कानून के तहत जम्मूवासियों के लिए केवल चतुर्थ श्रेणी के पद आरक्षित किए गए थे। अगर इसमें संशोधन नहीं किया जाता तो जम्मू के युवा केवल दरबारी बनकर ही रह जाते।

जम्मू कश्मीर के भारत में विलय के बाद से ही सरकारी नौकरियों के साथ ही हर क्षेत्र में कश्मीर केंद्रित सत्ताधारियों ने जम्मूवासियों को अपनी इच्छा के अनुसार छला है। उन्होंने कहा कि अगर डोमिसाइल कानून में संशोधन नहीं किया जाता तो जम्मूवासियों के लिए धारा 370 और 35ए को समाप्त करने और जम्मू-कश्मीर के केन्द्र शासित प्रदेश बनने के कोई मायने नहीं रह जाते।

उन्होंने कोरोना वायरस की महामारी के चलते जारी लॉकडाउन के दौरान लोगों से अपने घरों में ही रहकर अपनी और अपने परिजनों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की भी अपील की। उन्होंने कहा कि लोगों को चाहिए कि वे कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार की ओर से जारी किए गए परामर्शों का पूरी तरह से पालन करें।

Next Story
Share it