Top
Action India

सीएम योगी ने संकटमोचन दरबार में लगाई हाजिरी, प्रसाद में चरणामृत और तुलसीदल ग्रहण किया

सीएम योगी ने संकटमोचन दरबार में लगाई हाजिरी, प्रसाद में चरणामृत और तुलसीदल ग्रहण किया
X

  • प्रधानमंत्री के आगमन की तैयारियों का जायजा लेने के बाद अफसरों को दिया दिशा निर्देश

वाराणसी। एएनएन (Action News Network)

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने दो दिवसीय वाराणसी दौरे के अन्तिम दिन मंगलवार को श्री संकटमोचन दरबार में हाजिरी लगाई। दरबार में मुख्यमंत्री ने विधि विधान से महाबली की पूजा अर्चना की। प्रसाद स्वरूप चरणामृत और तुलसीदल ग्रहण किया। मंदिर में मुख्यमंत्री के पहुंचते ही मंदिर प्रबंधन ने स्वागत किया।

इस दौरान प्रदेश के नगर विकास और वाराणसी के प्रभारी मंत्री आशुतोष टंडन, धर्मार्थ कार्य, संस्कृति व पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा. नीलकंठ तिवारी, कैंट विधायक सौरभ श्रीवास्तव, सतुआ बाबा संतोष दास आदि भी मौजूद रहे। दरबार में विधिवत दर्शन पूजन के बाद मुख्यमंत्री कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस लाइन पहुंचे और यहां हेलीकॉप्टर से लखनऊ रवाना हो गये।

दिल्ली की हार पर मुख्यमंत्री ने चुप्पी साधी

दो दिवसीय वाराणसी प्रवास के अन्तिम दिन मंगलवार को मुख्यमंत्री सर्किट हाउस से निकल रहे थे तो पत्रकारों ने उन्हें रोक लिया। दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणाम पर सवाल शुरू होते ही मुख्यमंत्री हाथ जोड़ कर अपने वाहन में बैठे और निकल गये।

इसके पहले सोमवार की शाम शहर में आये मुख्यमंत्री ने सर्किट हाउस में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरे की तैयारियों की समीक्षा की। बेहद महत्वपूर्ण बैठक में मुख्यमंत्री ने अफसरों से तैयारियों के बाबत जानकारी लेने के बाद आवश्यक दिशा निर्देश दिया। बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों लोकार्पित होने वाली योजनाओं का स्थलीय निरीक्षण करने पहुंचे। मुख्यंमत्री ने चौकाघाट स्थित नवनिर्मित चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर का निरीक्षण किया।

बाबा विश्वनाथ मंदिर में किया विधिवत दर्शन-पूजन

इसके बाद मुख्यमंत्री का काफिला चौकाघाट की ओर से फ्लाईओवर पर चढ़कर लहरतारा की ओर कैंसर अस्पताल से नीचे उतरा। यहां से मुख्यमंत्री पूर्व कबीना मंत्री ओमप्रकाश सिंह के खोजवां स्थित आवास पहुंचे। वहां पर उन्होंने ओमप्रकाश सिंह की पत्नी एवं वाराणसी की पहली महिला महापौर सरोज सिंह के निधन पर शोक संवेदना जताया। परिजनों से मिलकर ढ़ाढ़स बधाया।

मुख्यमंत्री ने इस दौरान स्वर्गीय सरोज सिंह के चित्र पर पुष्पांजलि भी अर्पित की। यहां से मुख्यमंत्री सीधे काशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचे। मुख्यमंत्री ने दरबार में विधि विधान से दर्शन पूजन किया। मुख्यमंत्री जिस समय दरबार में पहुंचे वहां बाबा की भोग आरती चल रही थी। मुख्यमंत्री ने पूरे श्रद्धाभाव से भोग आरती देखी। इसके बाद मंदिर प्रबन्धन ने मुख्यमंत्री को अंगवस्त्रम और प्रसाद भेंट किया।

कारिडोर का किया निरीक्षण, समय-सीमा में पूरा करने पर जोर

दर्शन पूजन के बाद मुख्यमंत्री ने विश्वनाथ धाम कॉरिडोर का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कॉरिडोर के निर्माण कार्य को समय सीमा के अंतर्गत पूरा कराए जाने पर विशेष जोर दिया। मुख्यमंत्री ने कॉरिडोर का निरीक्षण गंगा तट तक किया। उन्होंने कॉरिडोर में घरों से निकले मंदिरों को देखा और उनका भव्य निर्माण कराने को कहा। यहां से वापस सर्किट हाउस लौटते समय मुख्यमंत्री कबीरचौरा स्थित मंडलीय महिला चिकित्सालय परिसर में भी पहुंचे। यहां मुख्यमंत्री ने नवनिर्मित 100 बेड के महिला मेटरनिटी विंग को भी देखा। इस दौरान प्रदेश के नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन, राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार रवींद्र जायसवाल, डा. नीलकंठ तिवारी, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, एडीजी बृजभूषण शर्मा, आईजी विजय सिंह मीणा, डीएम कौशल राज शर्मा, एसएसपी प्रभाकर चौधरी आदि भी मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री ने बच्चों में बांटी टाफी

चौकाघाट लहरतारा फ्लाईओवर के निरीक्षण के दौरान जब मुख्यमंत्री ने सड़क पर खड़े बच्चों को देखा तो उन्होंने अपने काफिले को रोकवा लिया। बच्चे जब तक कुछ समझते मुख्यमंत्री उनके पास पहुंच गए। उन्होंने बच्चों से उनके पढ़ाई लिखाई सहित उनके माता पिता के बारे में पूछा और उनसे बातचीत की। इसके बाद बच्चों को प्यार करते हुए उन्हें अपने हाथों से टॉफी भी दिया। मुख्यमंत्री के हाथों टॉफी पाकर बच्चे खिलखिला कर हंस पड़े । यह देख मुख्यमंत्री भी मुस्कराते हुए खोजवा रवाना हो गये।

Next Story
Share it