Top
Action India

वनोपजों के संग्रहण से वनवासी-ग्रामीणों के लिए बढ़े रोजगार के अवसर : वन मंत्री अकबर

रायपुर । एएनएन (Action News Network)

वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने कहा है कि कोरोना लॉकडाउन के कारण संकट की इस घड़ी में सरकार द्वारा लघु वनोपजों की समर्थन मूल्य पर खरीद और नगद भुगतान की प्रक्रिया से वनांचल के वनवासी-ग्रामीणों को काफी राहत मिल रही है। साथ ही वनोपजों के संग्राहकों के लिए रोजगार के अवसर भी बढ़ गए हैं।

प्रदेश में चालू सीजन के दौरान अब तक एक लाख 32 हजार 272 संग्राहकों द्वारा लगभग 21 करोड़ रूपये की राशि के 72 हजार 727 क्विंटल वनोपजों का संग्रहण हो चुका है। इनमें लक्ष्य के मुताबिक सबसे अधिक संग्रहण वाले 5 वनमण्डलों में नारायणपुर, दंतेवाड़ा, केशकाल, दक्षिण कोण्डागांव तथा बालोद वनमण्डल शामिल है। अब तक नारायणपुर वनमण्डल में लक्ष्य का 43 प्रतिशत अर्थात् 3 करोड़ 36 लाख रूपये के 10 हजार 995 क्विंटल, दंतेवाड़ा में 26 प्रतिशत अर्थात् 3 करोड़ 10 लाख के 10 हजार 68 क्विंटल तथा केशकाल में लक्ष्य का 20 प्रतिशत अर्थात् एक करोड़ 94 लाख रूपये के 6 हजार 571 क्विंटल वनोपजों का संग्रहण हो चुका है। इसके अलावा वनमण्डल दक्षिण कोण्डागांव में लक्ष्य का 20 प्रतिशत अर्थात् 3 करोड़ 37 लाख रूपये की राशि के 11 हजार 203 क्विंटल और वनमण्डल बालोद में लक्ष्य का 18 प्रतिशत अर्थात् 19 लाख रूपये की राशि के 900 क्विंटल वनोपजों का संग्रहण किया गया है।

इसी तरह राज्य में अब तक संग्रहित वनोपजों से लगभग एक लाख 32 हजार संग्राहक लाभान्वित हुए हैं। इनमें वनमण्डलवार लाभान्वित संग्राहकों में नारायणपुर में 11 हजार 109, दंतेवाड़ा में 22 हजार 496, केशकाल में 8 हजार 489, दक्षिण कोण्डागांव में 13 हजार 721 तथा बालोद में एक हजार 294 शामिल है। वनमण्डलवार जगदलपुर में 12 हजार 345, पूर्व भानुप्रतापपुर में 3 हजार 286, कांकेर में 6 हजार 727, सुकमा में 10 हजार 352, पश्चिम भानुप्रतापपुर में 4 हजार 68, खैरागढ़ में एक हजार 729, धमतरी में एक हजार 672 तथा बीजापुर में 10 हजार 551 संग्राहक लाभान्वित हुए हैं। वनमण्डलवार कवर्धा में 552, रायगढ़ में 980, कोरबा में 7 हजार 32, राजनांदगांव में एक हजार 824 तथा गरियाबंद में एक हजार 776 संग्राहकों द्वारा वनोपजों का संग्रहण किया गया है।

Next Story
Share it