Action India
अन्य राज्य

जंगलराज चरम पर,कानून व्यवस्था ध्वस्त-वीरेंद्र चौधरी

जंगलराज चरम पर,कानून व्यवस्था ध्वस्त-वीरेंद्र चौधरी
X

  • लॉकडाउन में प्रदेश में कई हत्यायें व हिंसा की घटनायें- राकेश सचान

लखनऊ । एएनएन (Action News Network)

प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी ने आरोप लगाया कि कोरोना महामारी के चलते प्रदेश में घोषित लॉकडाउन में जहां एक ओर योगी सरकार महामारी को रोकने में विफल रही है। मजदूरों को घर पहुंचाने के लिये कोई पुख्ता इन्तजाम नहीं हुये। वहीं दूसरी ओर प्रदेश में हत्या, जातीय हिंसा, बलात्कार की घटनाओं में बाढ़ आ गयी है। योगी सरकार का दबंगों, अपराधियों को मौन समर्थन प्राप्त है।

जनपद प्रतापगढ़ के पट्टी थाने के गोविंदपुर-परसद गांव में दबंगों द्वारा बरपाये गये कहर पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश उपाध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी के नेतृत्व में प्रतिनिधिमण्डल द्वारा घटनास्थल का दौरा कर प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के कार्यालय को वस्तुस्थिति की अवगत कराया है।
प्रतिनिधिमण्डल में शामिल कांग्रेस महासचिव व पूर्व सांसद राकेश सचान ने कहा कि योगी सरकार के जंगलराज के चलते कई हत्यायें और सैकड़ों हिंसा की घटनायें हुई हैं। एटा, आगरा प्रयागराज, चंदौली, संभल, प्रतापगढ़, अमेठी, उन्नाव सहित कई जिलों में जातीय हिंसा की घटनाये हुयी हैं। लेकिन, अपराधियों पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुयी।

उन्होंने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि अपराधियों को योगी सरकार का मौन समर्थन प्राप्त है। प्रतापगढ़ में ही मंगलवार को कुण्डा थाना के मुरैना गांव में दबंगों ने एक समुदाय के सात लोगों को मारा पीटा जिसमें गंभीर रूप से घायल एक व्यक्ति की मौत हो गयी। साथ ही जेठवारा थाना के ऐंठी नौबस्ता में दलित परिवार पर हमला हुआ जिसमें दो लोगों की हालत गंभीर है।कांग्रेस महासचिव मनोज यादव ने कहा कि योगी सरकार दलित-पिछड़ों का नरसंहार कर रही है। गोविंदपुर में मामूली विवाद के चलते जिस तरह से दबंगों, पुलिस और सत्ता का कहर देखने को मिला, बहुत ही खौफनाक मंजर था। कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त और गुंडाराज का बोलबाला दिखा। प्रतापगढ़ इस समय सामंतवाद का गढ़ बन गया है। प्रतापगढ़ के पट्टी थाने के गोविंदपुर-परसद गांव में कुर्मी समाज पर दबंगों द्वारा हमला किया गया। लेकिन, प्रशासन अब भी मूकदर्शक बना हुआ है।
पट्टी के पूर्व विधायक राम सिंह पटेल ने कहा कि स्थानीय पुलिस प्रशासन द्वारा जहां पीड़ितों की मदद करनी चाहिए वहां खुद पीड़ितों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई। पुलिस ने पटेल समुदाय के कई लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जेल भेज दिया तथा पचास से ज्यादा अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पीड़ितों का अभी तक मेडिकल भी नहीं हुआ और दबंगों के खिलाफ अभी तक एफआईआर दर्ज नहीं हुई। उन्होंने आरोप लगाया कि स्थानीय विधायक एवं कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह की राजनीतिक साजिशों के चलते पुलिस प्रशासन और दबंगों ने गोविन्दपुर और परसद गांव में आतंक कायम कर दिया है। गांव के लोग अभी भी दहशत में है। करीब 150 लोग भय के कारण गांव छोड़ दिया है।

कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने गोविन्दपुर गांव के पीड़ितों को फोन करके वस्तुस्थिति की जानकारी ली और उन्हें ढांढस बंधाया। इसके अलावा दोनों गांवों का पूर्व सांसद बाल कुमार पटेल ने दौरा कर किसानों की पीड़ा सुनी। प्रतिनिधिमंडल में उपाध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, महासचिव मनोज यादव, प्रदेश प्रवक्ता डॉ. अनूप पटेल, प्रतापगढ़ जिलाध्यक्ष ब्रजेन्द्र मिश्रा, अभिषेक पटेल और जयकरण वर्मा मौजूद रहे।

Next Story
Share it