Top
Action India

कोरोना से दम तोड़ने वाले युवक के परिवार की गैर मौजूदगी में हुआ दाह-संस्कार

शिमला । एएनएन (Action News Network)

कोरोना संक्रमण के कारण दम तोड़ देने वाले मंडी जिला के सरकाघाट निवासी 21 वर्षीय युवक का उसके परिवार के सदस्यों की मौजूदगी के बिना राजधानी शिमला में दाह संस्कार किया गया क्योंकि उसके परिवार के सदस्य सेल्फ-आइसोलेशन में हैं। प्रदेश में कोरोना से मरने वाला वह सबसे कम उम्र का पीड़ित है।

मंगलवार शाम उसकी उपचार के दौरान आईजीएमसी,शिमला में मौत हो गई थी। आईजीएमसी प्रबन्धन द्वारा देर रात शव को यहां के कनलोग स्थित श्मशान घाट लाया गया और जिला प्रशासन की निगरानी में शव का दाह संस्कार हुआ। पीपीई किट पहने कर्मचारियों ने पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी। संस्कार की क्रिया पूरी करने के लिए प्रशासन की तरफ से एक पंडित बुलाया गया था। पंडित ने 10 फुट की दूरी से मंत्रोच्चारण किया। एसडीएम शहरी नीरज चांदला और आईजीएमसी के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर नीरज चांदला इस दौरान मौजूद रहे।

नीरज चांदला ने बताया की संक्रमित मरीज के शव का मंगलवार देर रात सरकार की गाइडलाइन के अनुसार रीति-रिवाज में दाह-संस्कार किया गया। मृतक के परिवार का कोई भी सदस्य मौजूद नहीं था। उल्लेखनीय है कि मृतक युवक किडनी की गंभीर बीमारी से ग्रसित था और उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाई गई है। वह गत एक मई को दिल्ली से सरकाघाट स्थित अपने गांव लौटा था।
युवक अस्वस्थता के चलते चार मई को श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में आया था। जहां से उसे डायलीसिस के लिए मंडी जोनल अस्पताल और फिर आईजीएमसी शिमला रैफर किया गया था। गत मंगलवार को उनका आईजीएमसी में निधन हो गया।

हिमाचल में कोरोना संक्रमण से होने वाली यह दूसरी मौत है। इससे पहले मार्च माह में अमेरिका से कांगड़ा जिला के धर्मशाला लौटे तिब्बती मूल के एक बुजुर्ग की कोरोना से मौत हुई थी। राज्य में कोरोना के कुल 42 मामले सामने आ चुके हैं। हालांकि ज्यादातर मरीज ठीक हुए हैं। वर्तमान में राज्य में कोरोना के सक्रिय रोगी दो ही हैं।

Next Story
Share it