Action India
अन्य राज्य

गोरखपुर में मिला कोरोना का दूसरा पॉजिटिव, बढ़ी निगरानी

गोरखपुर में मिला कोरोना का दूसरा पॉजिटिव, बढ़ी निगरानी
X

गोरखपुर । एएनएन (Action News Network)

गोरखपुर में कोरोना का दूसरा कोरोना पॉजिटिव मरीज मिला है। यह बांसगांव क्षेत्र की एक महिला है। महिला के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की पुष्टि गोरखपुर के सीएमओ डा.श्रीकांत तिवारी ने की है। जानकारी के मुताबिक पहले मरीज की तरह, यह महिला मरीज भी दिल्‍ली के सफदरगंज अस्‍पताल से निजी एम्‍बुलेंस यहां आई है। परिवार के एक सदस्य का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था। एम्बुलेंस से परिवार गांव पहुंचा। ग्रामीणों ने उन्‍हेें प्रवाह नहीं करने दी थी। उसके बाद एम्बुलेंस चालक परिवार को जिला अस्पताल में छोड़ कर गायब हो गया था। यह परिवार मंगलवार को गोरखपुर जिला अस्पताल केे इमरजेंसी परिसर में लावारिस हालत में मिला था।इससे अस्पताल

परिसर में हड़कंप मच गया।

प्रशासन को जानकारी मिलने के बाद सीओ कोतवाली बीपी सिंह और जिला अस्पताल के फिजीशियन डॉ. राजेश कुमार मौके पर पहुंचे। पूछताछ में पता चला कि व्यक्ति दिल्ली से 23 हजार रुपये में प्राइवेट एम्बुलेंस तय करके आया है। एम्बुलेंस चालक ने उसे अस्पताल गेट पर ही छोड़कर वापस लौट गया है।

प्रथम दृष्टया नहीं मिले लक्षण

चिकित्सकों की प्रथम दृष्टया जांच में परिवार के किसी भी सदस्‍य में कोरोना के लक्षण नहीं मिले थे। मरीज के लिवर में संक्रमण मिला। पूरे परिवार को 100 बेड के टीबी अस्पताल में क्वांरटीन करा दिया गया। इसके बाद नमूना लेकर कोरोना जांच कराई गई। बुधवार को आई रिपोर्ट में परिवार की एक महिला सदस्य को कोरोना संक्रमित पाए जाने की पुष्टि हुई।

भैंसारानी गांव से जुड़ा है मामला

कोरोना का दूसरा मरीज बांसगांव के भैंसा रानीगांव का रहने वाला बताया जा रहा है। यह परिवार दिल्ली में रहता है। सफदरजगंज इलाके में रहकर कपड़ा धुलाई का काम करने वाले चित्रकूट के लिवर में संक्रमण था और इस वजह से उसका दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था। लॉकडाउन में चित्रकूट ने 23 हजार रुपये में प्राइवेट एंबुलेंस तय किया और अपनी पत्नी, दो बेटी और तीन साल के पोते के साथ अपने गांव बांसगांव थाना के भैंसारानी के लिए रवाना हुआ।

चौकसी पर एक बार फिर उठा सवाल

बॉर्डर पर हाईअलर्ट के बाद भी प्रदेश का एम्बुलेंस मंगलवार को बगैर जांच के बिना गोरखपुर में कैसे प्रवेश कर गया, यह सवाल सबके मन मे उठ रहा है। इस पर पहले दिन भी सवाल खड़े हुए थे। बता दें कि रविवार को ही हाटा-बुजुर्ग निवासी बाबूलाल दिल्ली से सफदरजंग से इलाज कराकर एम्बुलेंस से लौटा। उसी दिन जांच में कोरोना की तस्दीक हुई थी। इसके बाद सोमवार को प्रशासन ने एक दारोगा और दो सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया था।

बोले स्वास्थ्य अधिकारी

स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी टीएन बर्नवाल ने बताया कि लोग दिल्ली के सफदरजंग से चलकर गांव पहुंचे थे। प्रधान ने इसकी जानकारी साझा की और सबको बांसगांव सीएचसी पहुंचवाया। जहां से संभावित मरीजों को जिला अस्पताल भेजा गया। उसी एम्बुलेंस से लोग जिला अस्पताल आ गए। जिला अस्पताल में डॉ. राजेश कुमार ने जांच करते हुए सबको क्वारंटीन कर दिया गया।

Next Story
Share it