Top
Action India

कोरोनाकाल में नहीं हुआ जागरण तो संगीतकारों ने कहा- हम भी हैं

कोरोनाकाल में नहीं हुआ जागरण तो संगीतकारों ने कहा- हम भी हैं
X

हरिद्वार । Action India News

कोरोना महामारी के कारण जहां पूरा देश आर्थिक मंदी से जूझ रहा है, वहीं एक विशेष वर्ग पर भी इसका खासा असर देखने को मिला है। यह वह वर्ग है जो आम आदमी की खुशियों व सुख में सम्मिलित हुआ करता था।

आज इनके पास अपने गुजर-बसर करने के लिए कोई काम नहीं है। देवी जागरण से जुड़े म्यूजिशियंस व वाद्य यंत्रों के वादकों पर इस कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन का खासा असर देखने को मिला है।जहां आम दिनों में इन्हें छोटे-मोटे प्रोग्राम मिल जाया करते थे और नवरात्रों के गणपति महोत्सव में इनका सीजन रहा करता था, लेकिन इस बार इन्हें नवरात्रों में जागरण की बुकिंग नहीं मिली है।

इससे इनको गुजर-बसर करने में काफी समस्या आ रही है। इस वर्ग ने अपनी परेशानियों को आमजन तक पहुंचाने के लिए एक नया तरीका निकाला है। इन्होंने अपने ही ढंग से अपनी परेशानियों को गीत के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने का प्रयास किया है। इस गीत का नाम है- हम भी हैं...। इस गीत को धीरज चतरथ ने लिखा है।

गीत लिखने वाले धीरज चतरथ का कहना है कि उन्होंने यह गीत इस लॉकडाउन के कारण ठप हुए कार्य और अपने साथियों पर इस लॉकडाउन के कारण जो परेशानियां आई हैं उस पर लिखा है। जिस तरह हम लोगों के सुख में अपनी सभी परेशानियां भूल कर सम्मिलित हुआ करते थे, उसी तरह आज इस घड़ी में अगर आमजन हमें भूल जाएंगे तो कैसे चलेगा। कई संगीतकार और वादकों द्वारा इसका वीडियो शूट किया गया है और बताया गया है कि किस तरह लॉकडाउन में हमने अपने गुजर-बसर के लिए अपना व्यवसाय ही बदल दिया।

Next Story
Share it