Top
Action India

हमीरपुर प्रशासन की बड़ी लापरवाही,15 कोरोना संक्रमित मरीजों को भेज दिया घर

शिमला । एएनएन (Action News Network)

कोरोना से जूझ रहे हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिला प्रशासन की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। एकांतवास केंद्र से कोरोना के 15 संक्रमित मरीजों को नेगेटिव समझकर घर भेज दिया। बुधवार देर रात इन मरीजों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए और प्रशासन में हड़कंप मच गया। रात को ही आनन-फानन में सभी संक्रमितों को स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराया है।

उल्लेखनीय है कि संक्रमित मिले सभी मरीज कुछ दिन पहले रेड ज़ोन मुम्बई से आये थे और जिला प्रशासन इन्हें भोरंज उपमंडल में बनाए गए संस्थागत एकांतवास केंद्र में रखा था। हमीरपुर के उपयुक्त हरिकेश मीणा ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं। वहीं राज्य सरकार ने पूरे प्रकरण पर उपायुक्त से जांच रिपोर्ट तलब की है।

उपायुक्त हरिकेश मीणा ने गुरुवार को बताया कि कम्युनिकेशन गैप की वजह से यह चूक हुई है। इसकी जांच की जा रही है। संक्रमित पाये गये 15 लोग 18 और 19 मई को महाराष्ट्र से ट्रेन में पहुंचे थे और इन्हें संस्थागत एकांतवास में रखा गया था। इन सभी की पहली रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। गत 25 मई को दोबारा सैम्पल जांच के लिए भेजे गए तो बुधवार देर रात जो रिपोर्ट मिली, वह पॉजिटिव है। लेकिन इससे पहले ही सभी 15 लोगों को संस्थागत एकांतवास से छुट्टी देकर घरेलू एकांतवास के लिए घर भेज दिया गया था।

उन्होंने बताया कि बुधवार देर रात उपमंडल अधिकारियों के नेतृत्व में सभी 15 संक्रमितों को घर से लाकर कोविड केअर सेंटर में रखा गया है। संवाद हीनता के कारण यह सब हुआ है तथा इसकी तफ्तीश की जा रही है। उन्होंने बताया कि हमीरपुर में अब तक संक्रमण के 93 मामले सामने आ चुके हैं। एक की मृत्यु हुई है। संक्रमण के 90 फीसदी मामले महाराष्ट्र से वापस आये लोगों के हैं।

Next Story
Share it