Top
Action India

कोटा की तर्ज पर अन्य फंसे लोगों को भी घर पहुंचाए हिमाचल सरकार: माकपा

शिमला । एएनएन (Action News Network)

माकपा ने लाॅकडाउन के दौरान हिमाचल प्रदेश के अंदर व बाहर फंसे लोगों के प्रति चिंता व्यक्त करते हुए राज्य सरकार से उनके घरों तक पहुंचाने की व्यवस्था कराने की मांग की है। माकपा के राज्य सचिवालय सदस्य संजय चैहान ने शनिवार को कहा कि राजस्थान के कोटा से छात्रों को लाने के लिए सरकार ने अपने खर्च पर बसें भेजी हैं। इसी तरह प्रदेश से बाहर अन्य राज्यों में फंसे लोगों व प्रदेश में फंसे मजदूरों व अन्य लोगो को घर भेजने का प्रबंध किया जाए।

उन्होंने ग्रीन जोन में सम्मिलत जिलों में परिवहन व अन्य गतिविधियों को सामान्य रूप में आरम्भ करने की भी मांग उठाई है, ताकि लोगो को इस संकट की घड़ी में अपना रोजी रोटी अर्जित करने का अवसर प्राप्त हो सके।उन्होंने कहा कि प्रदेश में लॉकडाउन व कर्फ्यू को लागू हुए एक माह बीत गया है। प्रदेश के भीतर व बाहर आज हजारो लोग जिन में अधिकतर ध्याड़ी मेहनत मजदूरी करने वाले लोग है विभिन्न क्षेत्रों में फंसे हुए हैं और अपने घर जाने की मांग कर रहे हैं।

माकपा नेता ने सरकार पर मजदूरों के प्रति भेदभावपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार ने राजधानी शिमला में फंसे कश्मीर के 250 मजदूरों को अपने घर जाने की इजाजत दी है। परन्तु इन मजदूरों को बसे नही भेजी गई और इन्हें इस संकट की घड़ी में भी निजी बसों में अपनी जेब से 2000 हजार रुपये प्रति मजदूर के हिसाब से खर्च करना पड़ा है। यह सरकार का मजदूर वर्ग के प्रति भेदभावपूर्ण रवय्या दर्शाता है।

Next Story
Share it